यूज एंड थ्रो

1
232
Dr. Suresh Awasthi

जरूरतों की जमीन पर
स्वार्थ की खाद और
छल प्रपंच के पानी से
आज कल
ये संस्क्रति तेजी से
कर रही है ग्रो
नाम है:
यूज एंड थ्रो
अर्थात :
रिश्तों की सेहत
प्रेम और विस्वास की
आंच पर मत सेंको
जब, जैसी जरूरत हो
यूज करो, कूड़े में फेंको।

शब्द सामर्थ्य…

ये जो शब्द है न
वो चिंरजीवी, अक्षुण्य
अपराजेय होता है
किसी से नहीं डरता है
कितनी ही बार प्रयोग कर लो
किसी सिक्के की तरह
घिसता भी नहीं, न ही मरता है।
अपनी पूरी पूरी
कीमत अदा करता है
हम हर रोज कितनों को
भाई साहब, बहिन जी कहते हैं
ये संवोधन फिर भी हमेशा
तरोताज़ा रहते हैं
अपने पर उतर आएं तो शब्द
एक गाली में ढल कर
एक साथ
कितनों को निपटा सकते हैं
बाबू, जानू, जान, जानम
जैसे शब्द कितनों को एक साथ
पटा सकते हैं
जो लोग भी
शब्दों को सही तरीके से
संभाल पाते हैं
वो ही शब्द सामर्थ्य से
अपने काम निकाल पाते हैं
शब्द फिर भी
थकते नहीं
दूसरों का जी पका देते
पर खुद हैं कि
पकते नहीं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here