Home Blog

IIT Kanpur collaborates with AARDO to host “Mitigating Climate Change while Harnessing Renewable Energy” training programme. from 17-24 November 2022

0
The workshop was attended by about 100 participants including staff members, students, and research scholars
G P VARMA

Kanpur, November 19, 2022: The Indian Institute of Technology, Kanpur, in collaboration with the African-Asian Rural Development Organization (AARDO), is organizing a training program on innovative technologies of renewable energies for rural areas to mitigate challenges of climate change.

The training program, which began on 17 November 2022, would be conducted till 24th November 2022.

The course objective is to sensitise participants on using the engineering of renewable energies as a tool to fight back against the impact of climate change.

The inauguration of the Training Programme was held on 17th November 2022 at the Outreach Auditorium of IIT Kanpur. Dr. Manoj Nardeosingh, Seceretary General, AARDO was the Chief Guest for the occasion, while Prof. Abhay Karandikar, Director of IIT Kanpur accompanied him. Prof. A. R. Harish, Dean of Research & Development, IIT Kanpur, Dr. Sanjeeb K Behera, Head of Administration and Research Divisions, AARDO, Prof. B.V. Rathish Kumar, Head, CCE IIT Kanpur and Prof. J. Ramkumar, Coordinator, RuTAG IIT Kanpur, were present at the inauguration event, among others.

African-Asian Rural Development Organization (AARDO) is a rural-centric inter-governmental autonomous organization that subscribes to the spirit of South-South and Triangular Cooperation and has 33 member countries. This jointly-organized course is being held for the benefit of middle and senior-level executives from government departments, ministries, and agriculture engineers and scientists engaged in policy formulation, implementation, planning and appraisals.

Prof. J. Ramkumar welcomed the participants and introduced the initiatives taken by IIT Kanpur to develop technologies that will harness renewable energy. “The Sustainable Development Goals (SDGs) aim to transform our world. More than any other sector, agriculture is the common thread which holds the SDGs together. Regarding this training, the USP is ‘Learn by doing”, he said.

Prof. Abhay Karandikar, Director of IIT Kanpur said, “I hope that this programme would inspire more people to move towards sustainable energy. We have our dedicated Sustainable Energy Engineering Department to work on issues related to sustainability. Our focus is empowering the rural areas around us through the Rural Technology Action Group (RuTAG) established in our institute. A platform is given to rural innovations in this centre and we have also transferred technology to the African countries through AARDO. We’re delighted to have signed an MoU with AARDO for student exchange programs and high end skilling.” He wished for the participants to have a pleasant stay and a valuable experience at IIT Kanpur.

Addressing the inaugural session, His Excellency Dr. Manoj Nardeosingh, Secretary-General, AARDO, said, “Climate change is one of the greatest challenges of the 21st century. Its most severe impacts may still be avoided if efforts are made to transform current energy systems. At AARDO, a compendium/basket of technologies has been compiled in the form of dynamic database of innovative technologies captioned as “Affordable Technology Menu” (ATM), wherein available technologies for transfer as well as the innovative technology are parked. A few of the samples of selected technologies from the ATM are being handed over to four member countries.”

“I am very much sure that during this training programme, the presentation of the renowned resource persons, country delegates and the deliberation on the subject will contribute positively in arriving at valuable recommendations,” H.E. the Secretary General added.

Dr. Sanjeeb K Behera, outlined the mission of AARDO and its relevance to today’s world, while Prof. B. V. Rathish Kumar, invited the participants and he hoped that the participants leave with a pleasant educational experience.

IIT Kanpur researchers develop air filters to convert ACs into air purifiers

0
G P VARMA

Kanpur, November 17, 2022: A team of researchers from the Indian Institute of Technology (IIT), Kanpur, has developed a novel technology to turn ACs into affordable air purifiers. The one-of-a-kind technology is conceptualized and developed with the infrastructural as well as R and D support from IIT Kanpur, as the team of researchers found a way to turn regular ACs into air purifiers, during the winter season.

With smog and pollution posing grave concerns across several cities especially during the winter, this invention is expected to be a boon for many. The innovation comes in line with IIT Kanpur’s relentless work in the domain of air quality assessment and monitoring. IIT Kanpur has been involved in assisting various state governments and organizations in deploying technologies to combat air pollution. This technology comes as a simplistic handy tool, which can be easily mounted atop regular ACs and utilized by switching on ‘fan mode’.

The air filters are equipped with the “Anti-Microbial Air Purification Technology” developed at IIT Kanpur, in collaboration with researchers from the Indian Institute of Science, Bangalore. It has been tested at NABL Accredited Lab and has proven to be able to successfully deactivate SARS-CoV-2 (delta variant) with an efficiency of 99.24%.

Commenting on the development of this novel technology, Prof. Ankush Sharma, Professor-in-charge, Innovation and Incubation, IIT Kanpur, said, “The novel air purification technology used in these air filters has successfully proven its efficiency towards protecting us from life-threatening viruses. This innovation is a great addition to the R&D work IIT Kanpur is involved in.”

Co-Professor-in-charge, Innovation and Incubation, IIT Kanpur, Prof. Amitabha Bandyopadhyay, said, “This indigenous revolutionary innovation has tremendous potential to succeed in the global market. This launch is indicative of technology catering to critical world problems. I wish the team involved all the best with this new product.”

The existing air filters in the market work on a particle capture mechanism; however, over continuous use, the filter itself becomes a breeding ground for germs, like a petri dish. The minimum cost of such air purifiers in the market is around INR 10,000/- which usually comes with a fan and an air filter to clean the air. On the other hand, this new type of air filters developed at IIT Kanpur has proven to restrict the microbial growth and is capable of capturing PM 2.5, PM 10, dust, pollen, allergens and germs from the air while purifying.

The innovation has been licensed to AiRTH, a startup incubated at the Startup Incubation and Innovation Centre, IIT Kanpur, for marketing. It has been launched in the form of a product as ‘Clean Air Module’ and comes at an affordable price of Rs. 2000. One ‘Clean Air Module’ is claimed to be as effective as 10 normal AC filters. The product is now available for purchase through AiRTH’s website and other e-commerce sites.

A statement from the AiRTH team reads, “In our struggle to make clean air accessible, we are proud that we finally have a product that is effective and can be adopted by the masses”.

AiRTH is founded by Ravi Kaushik, an IIT Bombay alumnus, who is currently the CEO of the company. AiRTH was incubated at IIT Kanpur in 2020 with guidance and support from Prof. Amitabha Bandopadhyay, the then Professor-in-charge of the Startup Incubation and Innovation Centre, IIT Kanpur. A novel Anti-Microbial Air Purification technology developed by researchers from IIT Kanpur and Prof. Suryasarathi Bose and Prof. Kaushik Chatterjee from IISc Bangalore, has been used in AiRTH’s flagship product

प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो : संजना

0

नीरज साइमन जेम्स से संजना साइमन तक की यात्रा करने वाली ट्रांसजेंडर वुमेन संजना की संघर्ष यात्रा आज के समय की महत्त्वपूर्ण घटना है। वर्तमान में जब नीरज पूरी तरह से संजना में परिवर्तित हो चुकी हैं और संजना के रूप में अपनी आगे की ज़िन्दगी हँसी-खुशी और प्रगति के साथ बिता रही हैं, ऐसे में उनके जीवन के कुछ अनछुए पहलुओं पर ‘वाङ्मय’ पत्रिका के संपादक और शिक्षाविद् डॉ. फ़ीरोज़ खान ने उनसे महत्त्वपूर्ण बातचीत की है। प्रस्तुत है इसी बातचीत के कुछ अंश…

प्रश्न 1 आप अपने बारे में कुछ बताइए।

उत्तर- मैं संजना साइमन हूं।मैं जन्म से ही महिला हूं लेकिन मेरा जन्म एक पुरुष शरीर में हुआ था जिस कारणवश मेरे अभिभावक ने मुझे नीरज साइमन जेम्स नाम दिया था ।मैं उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में एक उच्च मध्यम वर्ग में पैदा हुई। मेरे पिता इंडियन रेलवे में काम करते थे। माता जी कॉन्वेंट स्कूल में हिंदी की शिक्षिका के पद पर थीं। मेरे दो बड़े भाई हैं जो मुझसे बहुत प्यार करते हैं। दोनों ही विवाहित हैं। दोनों भाभियां भी सर्विस करती हैं। मैं बचपन से ही बहुत आत्मविश्वासी, निडर और प्रतिभाशाली रही। मेरा पढ़ाई में विशेष मन लगता था। एम. कॉम. पूरा करने के बाद मैंने इलाहाबाद से बी.एड. किया। फिर अंग्रेज़ी शिक्षिका के रूप में बरेली के सैक्रेड हार्ट्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ाने लगी। उसी दौरान मैंने अंग्रेज़ी में परस्नातक की डिग्री प्राप्त की और बिशप कॉनराड सीनियर सेकेंडरी स्कूल कैंट,बरेली में सीनियर क्लासेज में अंग्रेज़ी पढ़ाने लगी।किताबों से तो मुझे बहुत लगाव था ही, उस पर बच्चों से इतना प्रेम और इज्ज़त मिली कि अध्यापन को ही अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया।

प्रश्न 2 ऐसी कौन सी परिस्थितियां थीं कि आपको नीरज से संजना बनना पड़ा?

उत्तर- अब मेडिकल टर्म में देखा जाए तो मैं जेंडर डिस्फोरिया के साथ पैदा हुए थी। लाखों में कोई एक बच्चा कुदरती ऐसा पैदा होता है जिसे अपने ही जिस्म और जननांगों से नफरत या कहें उनके साथ अच्छा नहीं लगता है। तो असल में मैं नीरज तो कभी थी ही नहीं!! थी तो बस संजना ही…. एक बात मुझे अच्छी तरह से पता थी कि बिना शिक्षा प्राप्त किए इज्ज़त की ज़िन्दगी ख्वाब बन जायेगी। क्योंकि मैं अपने आस-पास अपने जैसे लोगों की दुर्दशा देखती रहती थी तो सपनों को विराम लगाकर सबसे पहले मैंने अपनी शिक्षा पूरी की। भाग्य और जुनून ने अध्यापक बना दिया और लग गई कच्ची मिट्टी को सुंदर इंसान बनाने में। वक्त का पता ही नहीं चला। मैं पढ़ने-पढ़ाने में इतनी खो गई कि संजना को जन्म देना ज़रूरी तो नहीं लगा लेकिन संजना को छुप-छुपकर जीती रही। कभी अपने जैसे दोस्तों के साथ तो कभी किसी कम्युनिटी पार्टी में।संजना भी खुश थी क्योंकि वो बैलेंस बना कर चल रही थी संजना और नीरज के बीच। सबसे सुकून की बात थी कि मेरी ममता को पंख लग गए थे।स्कूल के बच्चों संग जीवन अच्छा कट रहा था। तभी 2014 में पिता जी बहुत सीरियस हो गए थे, हार्ट की सर्जरी हुई थी। मेरी शादी के पीछे ही पड़ गए , मैं कोई न कोई बहाना बनाकर मना कर देती लेकिन रिश्ते तो जैसे रोज ही आने लगे।संजना बहुत डर गई।छुप-छुपकर ही सही, संजना कभी-कभी साँसें ले लेती थी।अब लगा कि खुद की ज़िन्दगी मझधार में है और पिताजी किसी लड़की की ज़िन्दगी भी खराब करवा ही देंगे और एक दिन हिम्मत करके पिताजी, भाई, माताजी को रोते-रोते सब सच बता दिया था।जो वो भी जानते थे लेकिन शायद भूल गए थे या याद नहीं रखना चाहते थे। पिता जी ने मृत्यु से पूर्व बड़ा ही प्यार दिया मुझे। मुझे समझा और हिम्मत दी सच को स्वीकार करने की। 2015 में पिताजी का स्वर्गवास हो गया लेकिन जाने से पहले वो संजना को जन्म दे गए।पापा की बिटिया संजना को।

प्रश्न 3 क्या कभी आपको लगा कि अब मुझे ज़िंदा नहीं रहना है।

उत्तर- जी ऐसा तो कई बार लगा… हमारी ज़िन्दगी में ये शिकायतों का फलसफा चलता ही रहता है। एक बार दिल सच में बहुत मजबूर हो गया जब मैंने घर छोड़ा और दिल्ली आई।फिर जो मुसीबतों का पहाड़ टूटा, उसने रुला दिया और कोरोना में तो खाने को भी तरस गई। मजबूर होकर अपनी एक दोस्त के घर रहने लगी जो पेशे से किन्नर थी शुरू में तो सब ठीक ही था लेकिन जब पैसों की जरूरत मुँह खोले मुझे निगलने को थी तो दोस्त के कहने पर मैं उसके साथ काम पर गई। उसने कहा था कि तू सिर्फ हमारे साथ घूमना और तुझे एक हिस्सा हमारी कुल कमाई का मिल जाएगा। जब पहली बार नेग-बधाई में अपना हिस्सा बाँटा मिला तो बहुत तकलीफ हुई। अपने स्वर्गीय पिता से बहुत माफी माँगी और दिल हुआ कि इतनी पढ़ी-लिखी और अनुभवी होते हुए भी नौकरी नहीं मिली। किराये का घर नहीं मिल रहा था।जहाँ काम मांगने जाती वहाँ लोग जिस्म और खूबसूरती के चर्चे करते और कहते–घूमने चलो, महीने भर की सैलरी ले लेना। शरीर को बेचने से अच्छा तो अपनी दोस्त के साथ रहना और काम करना लगा डेरे पर लेकिन इस पैसे से सुकून नहीं था।बहुत कैद में थी वहां, बस जीने का मन ही नहीं था। मैं संजना बनने के लिए घर नौकरी छोड़ कर आई थी और बन कुछ और गई थी । खुद से नफरत सी होने लगी, रोती रहती और डिप्रेशन में जीने लगी। फिर मरने की सोची और निकल भी गई थी सड़क पर कि किसी गाड़ी के नीचे ही आ जाऊँगी लेकिन एक दोस्त ने मेरी उस नकारात्मक सोच को बदलने का काम किया। मुझसे कहा कि जब तुम इतनी प्रतिभाशाली होकर भी मरना चाह रही हो इससे अच्छा है कि अपने जैसों के लिए लड़ो। मरना तो एक दिन है ही! कुछ करके मरो। दो महीने लगे, खुद को संभाला।धीरे-धीरे सोशल कॉन्टैक्ट्स बनाए और जॉब के लिए प्रयास करती रही .

प्रश्न 4 संघर्ष के बाद सफलता कैसे मिली ?

उत्तर- मैं जॉब के लिए आवेदन करती रहती थी ,लेकिन जेंडर को लेकर बहुत ठोकर खाई और गंदी सोच का शिकार हुई ।फिर मैं ऐसी कंपनी और संस्था के बारे में खोजती रही जो एलजीबीटी को सहयोग करता हो। मौका मिला एक एनजीओ में जो ट्रांसजेंडर के हित के लिए कार्य करता था इंटरव्यू के लिए बुलाया गया। मैं सारी डिग्रियां और आत्मविश्वास लिए पहुंच गई और फिर सभी आवेदकों को पीछे करते हुए मैं उस एनजीओ की प्रबंधक बन गई,पैसा-इज्ज़त मिलने लगी। जिसके लिए मैं दिन-रात दुआएं मांगती थी लेकिन इस एनजीओ के पदाधिकारी ट्रांसजेंडर के हित की कम और डोनेशन की ज्यादा सोचते थे …फिर मौका मिला भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय में काम करने का। मुझे मंच संचालन के लिए बुलाया था अच्छी आवाज़ और भाषा में पकड़ के चलते पहले कार्यक्रम मे खूब वाहवाही मिली और कथक केंद्र, संस्कृति मंत्रालय में प्रोग्राम सेक्शन में काम मिल गया। साथ ही साथ बड़े-बड़े कलाकारों के कार्यक्रम में मंच संचालन भी करती रही। दिल में ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए कुछ करने की इच्छा ने मुझे एलजीबीटक्यू सोशल एक्टिविस्ट भी बना दिया और मैने अपना ख़ुद का ट्रस्ट रजिस्टर्ड करवाया ‘लव दाए नेबर ट्रस्ट’। इसी के साथ मैंने लोगों की सोच को बदलने की मुहिम चला दी जो अभी भी ज़ारी है और तब तक चलती रहेगी जब तक कोई संजना अपने घर से बेघर रहेगी। न ही उसे वे काम करने होंगे जो इंसान को ज़िंदा लाश बना देते हैं।

 प्रश्न 5 जैसा कि आपने बताया आप डेरे में भी रह चुकी हैं। वहाँ के बारे में कुछ बताएं।

उत्तर- जी हाँ, मैं कुछ समय के लिए ही सही डेरे में रही जरूर हूँ।
और शायद विधाता चाहते थे कि मैं उनके साथ रहूं उनकी ज़िन्दगी, दुख-सुख और अकेलेपन को महसूस कर सकूं।मेरे गुरु के डेरे में मुझे बहुत प्यार और इज्जत मिली। वजह शायद मेरी शिक्षा और प्रेमपूर्ण व्यवहार रहा, क्योंकि डेरों में खूबसूरती की कोई कमी नहीं होती। सभी ट्रांस खुद में किसी अप्सरा जैसी ही होती हैं। खाने-पीने का अच्छा इंतज़ाम रहता है। संसार में उपलब्ध मूलभूत सुविधाओं के साथ जीवन जीते हैं वहाँ के लोग।परन्तु हर डेरे के अपने कुछ नियम-क़ानून होते हैं।सबको उन्हें मानना ही होता है। गुरु तो मानो ख़ुदा के बाद सबसे बड़ा होता है।सब वहाँ गुरु-चेला परंपरा में रहते हैं और एक गुरु के सारे चेले आपस में गुरुभाई होते है । गुरु भाइयों में बड़ी जलन और एक-दूसरे से बेहतर बनने की प्रतिस्पर्धा होती है । सब लोग गुरु को प्रभावित करने में लगे रहते हैं जिससे कि गुरु उसे अपना वारिस बनाए। डेरो में प्यार-मोहब्बत सजना-संवरना, सब कुछ गुरु के नाम से ही होता है । किसी का अगर बॉयफ्रेंड बन जाये तो बड़ी बातें सुननी पड़ती हैं और भविष्य को लेकर हमेशा संकट रहता है। वहाँ तसल्ली नहीं मिलती न ही आज़ादी घर जाने की होती है, अपनी मर्ज़ी से घूमने-फिरने, रिलेशनशिप में रहने की भी कोई छूट नहीं मिलती। ऐसा मान लीजिए कि सोने के पिंजरे में चिड़िया कैद हो।

प्रश्न 6 डेरा बनाने का कॉन्सेप्ट कहाँ से आया कि हम एक डेरे में रहेंगे, शहर से बिल्कुल अलग रहेंगे। ऐसा क्यों?

उत्तर- डेरे बने क्योंकि समाज ने हमें स्वीकार नहीं किया। जब समाज को हमारे पैदा होते ही प्यार की जगह घृणा,डर और अपमान के भाव आने लगते हैं तभी से शुरू होता है दौर घर से निकाले जाने का। अगर कोई परिवार वाले पालन-पोषण करते भी हैं तो बड़ी मार-पीट के साथ रखते हैं। तो जब समाज और अपने परिवार ने ही त्याग दिया तो कुछ ट्रांस ने मिलकर डेरा बना लिया । पहले तो मुजरा,नौटंकी, गाना-बजाना करके पेट और डेरा पल जाता था…पर आज तो बधाई, नाच-गाने और देह-व्यापार ही ट्रांस की मजबूरी बन गई है ।डेरा मजबूरी और आवश्यकता में बना, जब घर नहीं था तो घर जैसा ही डेरा बना लिया।इसे एक गुरुकुल ही समझ लीजिए। समाज से दूर, फिर भी समाज में और समाज के लिए।

प्रश्न 7 जब आप पहली बार बधाई मांगने गईं, उसके बारे में विस्तार से बताएँ।

उत्तर- मैं जिस डेरे में गई थी वहाँ बहुत ही सभ्य और सुसंस्कृत लोग हैं।वहाँ की नायक खुद भी बहुत खूबसूरत और आकर्षक हैं।उनकी भी मजबूरी थी जो वो किन्नर समाज में शामिल हुए। इसी वजह से वह हम सभी जो उनके चेले थे, उनका विशेष ध्यान रखती थीं। हमारे इलाक़े में काफी भीड़ होती है। बाजार क्षेत्र की वजह से तो हम ढोलक और नाच-गाना नहीं करते थे। घर से खूब अच्छे से लिबास में मैडम के साथ रिक्शा किया और इलाके में घूम लिए। कहीं कोई शगुन कार्य हुआ तो पूजा के चावल डालकर, सिक्का-दुआएँ देकर, दुकान और जजमान की नज़र उतारकर नेग लिया और दो-तीन नेग बधाई के साथ लेकर डेरे पर वापस लौट जाते थे। हमारी गुरु बहुत प्यारी हैं, उन्हें पैसे का लालच नहीं है । जब मैं पहली बार गई तो गुरु सब लोगों को बता रही थीं कि मैं कितनी पढ़ी-लिखी हूँ। मुझे जजमानों से अंग्रेज़ी में बात करने को कहा गया था।मैं एक गुड़िया के समान अंग्रेज़ी बोलती और हँसती-मुस्कुराती रहती। मेरा शिष्टाचार जजमानों को बहुत लुभाता और वो हैरान होकर तरस दिखाते कि ऊपर वाले ने मेरे साथ बड़ा ही अन्याय किया है। मुझे बेटी और बहन बना लिया था कई लोगों ने। एक जजमान तो रोने ही लगे थे। जब पहली बार देखा तो एक ने घर में बीवी-बच्चों को बताया तो उन्होंने मेरे लिए साड़ी भेंट की। मुझे शिक्षित और शिष्टाचारी होने के कारण बहुत प्यार मिला ।गुरु माँ,गुरु भाई,जजमान सब मुझे बहुत प्यार करते थे और मैं मन ही मन यही प्रार्थना करती थी कि कुछ ऐसा करूँ कि लोग ट्रांसजेंडर समाज को इज़्ज़त से देखें, बराबरी का काम दें और सम्मान की ज़िन्दगी मिले सबको।पैसा,कपड़ा और प्यार तो था लेकिन तरस खाकर दिया पैसा भीख जैसा चुभता था ।मेहनत करके कमाया हुआ खुद की काबिलियत का पैसा सुकून देता है । यह अंतर मैं महसूस कर चुकी थी। एक तरफ बारह वर्ष शिक्षण कार्य और दूसरी तरफ नेग-बधाई माँगना…ज़मीन-आसमान का अंतर था एक तरफ तरस और मजबूरी और एक तरफ काबिलियत और आत्मसम्मान।

प्रश्न 8 आमतौर पर देखा गया कि थर्ड जेंडरों का नाम स्त्रीलिंग की ओर झुका पाया जाता है। इसके बारे में आपका क्या कहना है।
उत्तर- जी,सही कहा आपने लेकिन इस हक़ीक़त के पीछे जो सत्य है वो है पुरुष प्रधान समाज। दरअसल थर्ड जेंडर में ट्रांसवूमैन और ट्रांसमैन दोनों ही आते हैं। भारतीय समाज एक ऐसा समाज है जिसमें सदियों तक महिलाएँ घर के अंदर घूँघट में रहती थीं और पुरुष ही थे जो सामाजिक आज़ादी का लुफ़्त लेते थे। इस आज़ादी का फायदा मिला ट्रांसवूमैन को जो पैदा होती है एक पुरुष शरीर में लेकिन होती है एक महिला। ट्रांसवूमैन जल्दी ही अस्तित्व में आ गई।नाच-गाना हो या धार्मिक कथाओं में पात्रों के चरित्र निभाना,पुरुष ही सब करते थे या कहा जाए कि ट्रांसवूमैन ऐसा करने लगे।पुरुष पैदा हुए थे तो आज़ादी के साथ-साथ अपमान और शारीरिक शोषण भी मिलता था। तो बन गए किन्नर कोठियाँ और हिजड़ा डेरे। जब रहने,खाने,पीने और कमाने की सहूलियत मिली तो जनसंख्या भी बढ़ने लगी इनकी जो आज लाखों में हो गई है । इसलिए हमें अपने आस-पास ट्रांसवूमैन ज्यादा दिखती हैं और स्त्रीलिंग का नाम रूपक इनकी पहचान बन जाता है।लेकिन आज धीरे-धीरे ही सही, महिलाओं ने भी जेंडर परिभाषित किया है और खुलकर अपनी अभिव्यक्ति को ज़ाहिर किया है । आज कम ही सही आपको ट्रांसमैन जरूर दिख जाएँगे जो पुरुष नाम रखते हैं।

प्रश्न 9 (ट्रांसवेस्टिज्म) Transvestism के बारे में क्या कहना चाहेंगी?
उत्तर- यह टर्म काफी पुराना है, जिसे क्रॉसड्रेसर ने ज्यादा सटीक तरीके से परिभाषित किया है और ज्यादा चलन में भी है। ट्रांसवेस्टिज्म मतलब एक पुरुष या महिला काम, व्यवसाय,फैंटेसी और प्रयोगवाद के लक्षणों के तहत विपरीत लिंग के परिधान पहनते हैं…जो कुछ समय के आनंद या ज़रूरत के लिए होता है ।यह टर्म ट्रांसजेंडर या थर्ड जेंडर से बिलकुल ही अलग है।

प्रश्न 10 किन्नर और ट्रांस में क्या अंतर है?
उत्तर- हर किन्नर ट्रांस है लेकिन हर ट्रांस किन्नर नहीं है । किन्नर का अस्तित्व दो प्रकार से है–
1.शारीरिक तौर से

  1. पेशे से
    शारीरिक तौर से भी किन्नर दो प्रकार के होते हैं।प्रथम वो किन्नर जो जन्म से उभयलिंगी या इंटरसेक्स होते हैं।नाम से ही ज्ञात है कि उनके जननांग कुछ ऐसी बनावट लिए होते हैं कि देखने वाला कंफ्यूज हो जाता है कि यह योनि है या लिंग है। दोनों का ही समावेश आधी-अधूरी तरह से उभय होता है। इसलिए उभयलिंगी जेंडर परिभाषित होता है। दूसरा वो किन्नर जो पुरुष जननांग के साथ पैदा होता है परंतु मानसिक रूप से स्त्री होता है। विशेष बात है कि जेंडर मानसिक दृष्टि से परिभाषित होता है और मन से स्त्री भाव होने के कारण ऐसे पुरुष निर्वाण (एक प्रकार की शल्यक्रिया) करवाकर स्त्री और पुरुष के जननांग से मुक्ति पा लेते है और धर्म-अध्यात्म में आ जाते हैं। पेशे से वो सभी लोग किन्नर हैं जो बधाई देने, नेग माँगने में लगे हुए हैं और डेरे में गुरु-शिष्य परम्परा के साथ रहते हैं। समाज में होने वाले मांगलिक अवसरों पर शगुन और नेक मांगते हैं।इस प्रकार के समूह में व्यक्ति अपनी मर्जी से जाता है। इसमें हर उस इंसान का स्वागत होता है जो उभयलिंगी है,निर्वाण प्राप्त है या सेक्स चेंज सर्जरी के द्वारा पुरुष से स्त्री बना हो।वो व्यक्ति जो शरीर से पुरुष और मन से स्त्री है ( क्रॉसड्रेसर्स) वो भी इस समूह में शामिल हो सकता है ।
    ट्रांस– हर वो व्यक्ति जो अपने जन्म के जननांग के साथ खुश नहीं होता वरन विपरीत लिंग में खुद को ज्यादा सहज महसूस करता है वो ट्रांस है। ट्रांस महिला शरीर में पुरुष अभिव्यक्ति वाला भी हो सकता है और पुरुष शरीर में महिला अभिव्यक्ति वाला भी हो सकता है। इस वर्ग में सर्जरी या निर्वाण होना आवश्यक नही है । आप खुद से ही अपना जेंडर परिभाषित कर सकते हैं।

प्रश्न 11 क्या आप कभी किसी लड़के की तरफ आकर्षित हुईं। अगर हुईं तो उसका अनुभव बतायें।
उत्तर- पहला प्यार एक खूबसूरत अनुभूति था परंतु आकर्षण हुआ एक बहुत ही सुलझे और पढ़े-लिखे युवक से। दिखने में तो वो था ही खूबसूरत नौजवान लेकिन मुझे उसके व्यक्तित्व ने बहुत ही क्रेजी कर दिया था । उसका बात करने का स्टाइल, उसका अंग्रेज़ी बोलना, उसका हमेशा साफ-सुथरे सलीके वाले परिधान पहनना‌।मतलब मैं बहुत इंप्रेस थी और शायद वही व्यक्तित्व मुझमें आज भी दिखता है।कहना ग़लत न होगा आज अगर मेरी पर्सनलिटी में लोगों को जो आकर्षण दिखता है, उसमें इस इंसान का काफी योगदान है और मजे की बात यह है कि उस इंसान को आज तक ये पता ही नहीं है।

प्रश्न 12 क्या आपको कभी किसी से प्यार हुआ? अगर हुआ तो कितने दिनों तक चलता रहा?
उत्तर- प्यार से कौन बचा है भला।मुझे भी प्यार हुआ या ये कहें कि किसी को मुझसे प्यार हो गया था और उसके प्यार में इतनी शिद्दत थी कि मैं कब उसे कुबूल कर बैठी, मुझे भी पता नहीं चला। वो मेरी किशोरावस्था थी। मेरा सीनियर था वो, सांवला था लेकिन दिल का अच्छा था।प्यार ही करता था वो। हम करीब दो साल प्यार में रहे। फिर मैं और वो ज़िंदगी में और अधिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्यार की राहों से सहर्ष अलग-अलग हो गए। कुछ साल बाद उसकी शादी हो गई और बच्चे हो गए। हम आज भी अच्छे दोस्त के समान एक-दूसरे से संपर्क में हैं। प्यार दोस्ती बन गया और हम आज भी एक दूसरे के शुभ चिंतक है

प्रश्न 13 लिव इन रिलेशन के बारे में विस्तार से बताएँ। उसका अनुभव?
उत्तर- लिव इन रिलेशन की शुरुआत मेरे सेक्स चेंज सर्जरी से दो साल पहले शुरू हुई थी।हुआ कुछ यूँ कि बरेली में तो अपने परिवार के साथ रहती थी तो अकेलापन कभी महसूस ही नहीं हुआ। जब दिल्ली आई 2019 में तो महसूस हुआ कि मैं बहुत अकेली पड़ गई हूँ ।दोस्त थे कई सारे लेकिन मेरे मन के नहीं थे और जो मन के थे वो अपने काम-धंधे में लिप्त थे। तभी मैं अपने रूममेट के एक दोस्त से मिली जो हमारे रूम पर किसी काम के लिया आया था ,वो पेशे से एक डॉक्टर है ।वो मुझे या यूँ कहें कि मेरी सादगी को देखकर बड़ा हैरान हुआ और बड़े आश्चर्य से मेरे बारे में पूछताछ करने लगा।उसे लगा कि मैं लड़की हूं।मेरी दोस्त ने,जो खुद एक ट्रांसवूमैन थी, उसे बताया कि मैं भी एक ट्रांसवूमैन हूँ। यहीं से वो लड़का मेरी तरफ और अधिक खिंचता चला गया। मेरी एजुकेशन, मेरी सोच,मेरा पहनावा; सब उसे वैसा ही लगा जैसा वो चाहता था और फिर हमारी दोस्ती हो गई । धीरे-धीरे यह दोस्ती प्यार में बदलने लगी। जब कोरोना आया,मैं घर से दूर थी और रूममेट्स भी अपने-अपने घर चले गए थे।ऐसे में उसने मेरा बहुत साथ दिया। मुझे लगा मेरे पापा वापस आ गए हैं।मेरी तबीयत, दवाई और घर की सारी ज़रूरतों का ख्याल वो ही रखने लगा । और फिर जब लॉकडाउन में थोड़ी ढील मिली और मैं घर गई तो मुझे अच्छा नहीं लग रहा था अपना घर पराया सा लग रहा था। शायद दोस्ती प्यार में बदल गई थी। दिल्ली जाते ही प्यार का इज़हार हो गया और फिर एक साल तक हम प्यार में ही रहे। अप्रैल 2021 में मेरी सर्जरी हुई। मेरी सर्जरी में उसने बहुत अच्छी तरह मेरा ख्याल रखा। नवम्बर 2021 से हम साथ रहने लगे।शुरू में उसके परिवार ने बहुत क्लेश किया लेकिन हम आज भी लिविंग रिलेशन में हैं। उसका परिवार भले ही मुझे बहू नहीं मानता हो लेकिन बेटी के रूप में खूब प्यार करते हैं। रोज ही बातचीत और मुलाकात हो जाती है।अब दिल्ली में मैं अकेली नही हूं,उसका परिवार मेरा बन चुका है और सारा परिवार मुझे बहुत प्यार और सम्मान देता है । मुझे ट्रांसवूमैन की लाइफ का यह सबसे सुंदर हिस्सा लगता है। न ज़माने की परवाह, न दकियानूसी भरी सामाजिक परंपराएँ । बस दो दिल जो जीना चाहते हैं,खुश रहना चाहते हैं । किसी ने क्या खूब कहा है-
एक अहसास है ये रूह से महसूस करो…प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो ।
जी हाँ, हमारे रिश्ते का भी कोई नाम नहीं है।न ही कोई निकाहनामा, न कोई पंडित न,कोई पादरी, न गवाह, न कोई सबूत। बस है तो केवल प्यार है। मैं खुश हूँ लिव इन रिलेशनशिप में।

प्रश्न 14 क्या आपको नहीं लगता कि इस तरह के सम्बंध बहुत दिनों तक नहीं चलते हैं। आपकी राय।
उत्तर- ट्रांसवूमैन की ज़िन्दगी में कुछ भी बहुत दिनों तक नहीं चलता। जब जन्म देने वाले माता-पिता समाज की वजह से हमें अकेला छोड़ देते हैं । तो फिर अपने साथी से क्या शिकवा, क्या शिकायत ।जो पल भी साथ है, खुशी से उसे जीना ही समझदारी है । हसरतें तो कहती हैं कि माँ-बाप कोई लड़का ढूँढते, फिर मेरे भी दरवाज़े बारात आती।मैं भी दुल्हन बनकर ससुराल जाती…लेकिन हसरत और हक़ीक़त के बीच उलझी ट्रांसजेंडर महिला और ट्रांसजेंडर पुरुष खुद ही सीख लेते हैं …जिंदगी को खुलकर जीना,बिना शर्तों के, बिना बंधन के। हक़ीक़त में लिव इन रिलेशनशिप ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए एक आशीर्वाद ही है।

प्रश्न 15 थर्ड जेंडर समुदाय को किस तरह से मुख्यधारा में लाया जा सकता है? जो लोग समाज में रहकर भी समाज से अलग-थलग रह रहे हैं,उनको मुख्यधारा में कैसे लायें? क्या योजना होनी चाहिए?
उत्तर- समानता के अधिकार के साथ ही ट्रांसजेंडर को मुख्य धारा में जोड़ सकते हैं। संविधान द्वारा उपलब्ध करवाए गए समानता के अधिकार में वे सभी बातें सम्मिलित हैं जो पुरुष और स्त्री के समान रूप से जीवनयापन के लिए ज़रूरी हैं। जो लोग अलग-थलग हैं, उन्हें व्यापार से और प्यार से ही एक किया जा सकता है। अगर पढ़ाई और सरकारी नौकरी में रिजर्वेशन जैसी कुछ सुविधाएं मिलें तो कोई ट्रांसजेंडर अपने परिवार के ऊपर कभी बोझ न बने। सरकार द्वारा प्रदत्त योजनाओं में सर्वप्रथम पढ़ाई और नौकरी जैसी सुविधाएं होनी ही चाहिए…क्योंकि समाज बड़ा अवसरवादी है। यह केवल अपना लाभ देखता है। किसी मनुष्य की उपयोगिता ही उसे समाज में प्रतिष्ठा प्रदान करती है। जिस दिन समाज को यह दिखेगा कि हमारे पास ज्ञान भी है और हम आर्थिक रूप से किसी दूसरे पर आश्रित नहीं हैं, अपना जीवन-यापन स्वयं करने में सक्षम हैं, तो समाज खुद ही हमारा उपभोग और उपयोग करने लगेगा।

प्रश्न 16 आप प्यार को किस तरह से परिभषित करेंगी?
उत्तर- मेरी नज़र में प्यार मतलब एक ऐसा अहसास भरा रिश्ता जिसका कोई नाम भले ही न हो पर उसमें आपका हक़ शामिल हो। प्यार वो अहसास है जो आने वाले कल की चिन्ता और सामाज की रूढ़ियों और लोक-लाज से परे होता है । प्यार जिसमें सुकून होता है, जो हमें जीने के लिए प्रेरित करता है,जो अपनाना जानता है।
जैसे मैं और मेरी मां।कभी मां-बेटे,
कभी मां-बेटी और आज दो पक्की सहेलियां।रिश्तों के नाम ज़रूर बदल रहे हैं ( क्योंकि केवल नाम के बंधन में ही नहीं होता है सच्चा प्यार) लेकिन रिश्ता गहरा हो रहा है। अहसास अब जड़ें मजबूत कर चुके हैं। अब दो होकर भी एक हो रहे हैं ।
‘प्यार’
मानो तो ढाई अक्षर
जी लो तो सारी ज़िंदगी
बयां कर सको तो
तो नयनों का पानी

प्रश्न 17 आप अपना अकेलापन कैसे व्यतीत करती हैं?
उत्तर- अब मैं कम ही अकेली होती हूँ। बहुत कुछ है अब मेरे पास मेरे अकेलेपन को मारने वाला। मैं अब बहुत ही आध्यात्मिक हो गई हूँ। धर्मशास्त्र (पवित्र बाइबिल) में पीएच.डी. कर रही हूँ। फ़ुरसत के पलों में लिखती हूँ,गुनगुना लेती हूँ और ज़्यादा टाइम हो तो खाना पकाती हूँ। वैसे तो अकेलापन अब महसूस नहीं होता। उनकी जगह अब बचपन की यादें,कुछ पुराने दोस्त,अपना परिवार और घंटों चलने वाली वीडियो कॉल्स। अब तो वो भी मेरे साथ हैं जिनके साथ लिव इन रिलेशनशिप का लव एंजॉय कर रही हूं,उनका परिवार, कुछ ज़िम्मेदारियां और अपने समुदाय के लिए मेरे कर्त्तव्य; जो मैं अपने यूट्यूब चैनल के माध्यम से भी पूरे करती हूँ।

प्रश्न 18 आपको सबसे ज्यादा दुख कब और क्यों हुआ?
उत्तर- सबसे ज्यादा दुख तब हुआ जब पापा हमेशा के लिए चले गए थे। पापा थे, तो मानसिक रूप से मैं बहुत सक्षम थी। फिर जब मेरे ट्रांसफार्मेशन की खबर मां को मिली तो कोख को कोसते हुए बोलीं कि मैंने तुझे क्यों पैदा करा और रोने लगी।मैं आज भी वो पल को याद करती हूं तो सोचती हूं कि मेरी गलती क्या थी। क्या मैंने जानबूझ कर अपना जन्म ऐसा किया। मां जितनी गुस्सा थी, उससे ज्यादा दुखी थी मेरे लिए। बहुत सोचती थी कि मेरा क्या होगा।एक दुख तब भी बहुत हुआ जब मेरी सेक्स चेंज सर्जरी थी। जो करीब नौ घंटों की थी। और मेरे साथ परिवार का कोई इंसान नहीं था। मां से वीडियो कॉल पर बात करते हुए मैं तो रो रही थी लेकिन मां खुश थी और बहुत दुआ-आशीर्वाद दे रही थी। कह रही थी कि जिस लड़की को मैं पैदा नही कर पाई, उसे तुझे पैदा करना होगा। सर्जरी से एक साल पहले से ही मां मुझे संजना मानने लग गई थी और जितना प्यार नीरज से था, उससे दुगुना वो संजना से करने लगी थी।पहले वो सिर्फ मां थी अब दोस्त भी बन गई थी। दुख था तो यह कि वो सर्जरी के समय मेरे पास नहीं थी।

Sanjna Simon

IIT Kanpur join hands with Microsoft to enable ‘future-ready’ startups

0
G P VARMA

Kanpur/Noida, November 16, 2022: The Indian Institute of Technology (IIT) Kanpur has joined hands with Microsoft to enable ‘future-ready’ startups that can lead on many fronts. IIT Kanpur’s technology business incubator Startup Incubation and Innovation Centre, which works with young innovators and incubates new technology, knowledge, and innovation-based startups, has collaborated with Microsoft to launch the “Azure Society of Excellence”. The two enterprises have entered an MoU to launch this program in close partnership. Under this program, SIIC, IIT Kanpur and Microsoft will work together to support the startups by extending mentorship, employment, and entrepreneurial opportunities. The program will also enable access to ‘Founder’s Hub’- a talent-employability program for the future-ready startups in SIIC, IIT Kanpur’s incubation ecosystem.

The collaboration will help startups at IIT Kanpur to avail benefits of Microsoft Software and services, access to GitHub, M365 resources, training, and skilling on Azure, mentors network, which includes exclusive access to Microsoft leadership and expert guidance from Microsoft Valuable Professionals (MVP), Azure Influencers, and startup founders. The Microsoft Mentor Network will also lend their support to provide expert feedback and advice on topics ranging from product roadmap to business plans and facetime with high-value VCs.

The MoU exchange ceremony received participation from prominent attendees from the incubation ecosystem at IIT Kanpur and Microsoft. The participants included Shri Akshay Tripathi, IAS Managing Director, UPLC; Prof. AR Harish, Chairman, Governing Body AIIDE-CoE; Dr Nikhil Agarwal, CEO FIRST IIT Kanpur & AIIDE CoE; Microsoft Officials, along with six innovative startups from AIIDE-CoE incubation ecosystem.

The event started with an inaugural address by Dr Nikhil Agarwal, which was followed by a welcome address by Prof. AR Harish and a special address by Akshay Tripathi.

Dr Nikhil Agarwal, during his welcome address, said, “This event today will initiate the foundation of a new avenue for the budding entrepreneurs where expert support and software technologies will come together to create a juncture for a better tomorrow for all and catalyse the journey of scaling-up for the modern Indian startups. I express my deepest gratitude for this collaboration.”

Under this program, the startups from the institute will also get access to flexible, scalable resources such as API Integration with GitHub, visits to Microsoft Tech Center in Bengaluru for demonstration of tech value and scheduled in-person/online sessions. Furthermore, they can avail access to Microsoft ISV – Independent Software Vendors, and opportunities to work with Microsoft, and list on the Microsoft Marketplace.

Himani Agrawal, Country Head, Azure, Microsoft India, said, “We are delighted to collaborate with SIIC, IITK which will further enhance our respective startup acceleration efforts to provide an environment with the right support and structures and enable innovators to scale faster. With the Azure Society of Excellence, startups will be able to build innovative cloud-native apps and solutions to drive economic growth, which is inclusive, trusted, and sustainable.”

Commenting on the MoU exchange between SIIC and Microsoft, Prof. Ankush Sharma, Prof-in-charge, Innovation & Incubation, IIT Kanpur commented, “This collaboration between IIT Kanpur and Microsoft will help startups at SIIC reach new heights. Microsoft offers an excellent software pool, structure and expert support which, as and when blended with the innovations of our innovators, will make a remarkable difference in the society plus the startup ecosystem.”

Prof. Amitabha Bandyopadhyay, Co-PIC, Innovation & Incubation, IIT Kanpur, added, “Association with Microsoft would allow the young innovators to use critically needed soft-infrastructure which would have otherwise cost them a significant sum. I truly app

IIT Kanpur signs Cooperation Agreement with Rice University, USA

0
Prof. Luay Nakhleh, Dean of George R. Brown School of Engineering, and Prof. Abhay Karandikar, Director IIT Kanpur, lighting the lamp at the Agreement Signing Ceremony
G P VARMA

Kanpur, November 14, 2022: The Indian Institute of Technology Kanpur (IITK) and William Marsh Rice University, USA signed a cooperation agreement today at a ceremony held at IIT Kanpur.

A delegation from the Rice University visited IIT Kanpur and took stock of various research and development work of the institute. IIT Kanpur already have an on-campus Rice-IITK Collaborative Center working in the areas of Sustainable Energy, Materials, Water, Alternative Fuels, etc. This new agreement offers the two universities newer avenues to work towards collaborative teaching, training, and research in areas of mutual interest.

The agreement was signed by Prof. Abhay Karandikar, Director, IIT Kanpur and Prof. Reginald DesRoches, President, Rice University. Prof. S. Ganesh, Deputy Director and Prof. Dhirendra Katti, Dean of International Relations from IITK and Prof. Seiichi Matsuda, Dean of Graduate and Postdoctoral Studies; Prof. Luay Nakhleh, Dean of George R. Brown School of Engineering; and Prof. Pulickel Ajayan, Chair of the Department of Materials Science and NanoEngineering from Rice University were also present at the ceremony.

Prof. Abhay Karandikar, Director IIT Kanpur, felicitating Prof. Luay Nakhleh, Dean of George Brown School of Engineering, Rice University, with a memento

The agreement sets out guidelines for the two universities to develop joint research and academic engagements broadly in the areas of Engineering, Sciences, Medicine/Healthcare, Humanities and Management/Business. The initial phase of the engagements will focus on the areas of energy,
,environment, healthcare, biomedical sciences, biomedical engineering and data science, information technology, computer science and engineering.

Upon signing the agreement, Prof. Abhay Karandikar, Director IIT Kanpur said, “IIT Kanpur’s collaboration with Rice University has been going from strength to strength. Under the Rice-IITK Collaborative Center, we have initiated important joint research, organized a virtual joint symposium for faculty collaborations and have provided once-in-a-lifetime opportunities for our students. I am sure this next chapter of our partnership will lead to strengthening our relations further.”
“I believe Rice’s partnership with the Indian Institute of Technology Kanpur will be the jewel in the crown of our efforts in India,” said Rice President Reginald DesRoches, who sees the continued expansion of Rice Global as a top presidential priority.

Prof. Abhay Karandikar, Director IIT Kanpur, felicitating Prof. Seiichi Matsuda, Dean of Graduate & Postdoctoral Studies, Rice University, with a memento


As part of this agreement, IIT Kanpur and Rice University will explore opportunities for student exchange activities; joint research and publications; and organizing joint conferences and workshops that involve scholars, policy makers, and business leaders from around the world. On the academic front, the agreement will lead the development of undergraduate or postgraduate coursework units jointly taught by IIT Kanpur and Rice University faculty; and the establishment of a joint PhD,Masters,Bachelors-Masters program.

The Rice-IITK Collaborative Center has been active at IIT Kanpur since its inauguration in 9th January, 2020. The Centre has been spearheading crucial research work in key areas such as Sustainable Energy, Materials, Water, and Alternative Fuels, among others.

The focus has largely been on developing materials and processes for solar photovoltaics, energy storage, alternative fuels, electrocatalysis, and water treatment and remediation. This new agreement will further accelerate the existing work and would open up newer scope of mutual interest among the two institutes.

IIT Kanpur-backed innovation shines at the global stage as Prince William unveils the finalists for the Second Annual Earthshot Prize

0

Kanpur, Nov 7, 2022: IIT Kanpur-backed innovation ‘Fleather’ – a regenerative approach to creating leather out of floral waste, developed by IIT Kanpur-incubated startup Phool.co, gets global recognition as one of the fifteen finalists for the 2022 Earthshot Prize, as announced by Prince William recently. The Earthshot Prize recognizes an accomplished group of entrepreneurs and innovators spearheading ground-breaking solutions to the grave environmental challenges our planet faces. ‘Fleather’ is one of the only two innovations shortlisted from India for the award this year.

‘Fleather’ is a revolutionary product developed as animal-free leather by Phool. They are a startup founded by Ankit Agarwal and Prateek Kumar in July 2017 with critical incubation support from the Startup Incubation and Innovation Centre (SIIC), the technology business incubator of IIT Kanpur. The ideation and work to turn flower waste to sustainable products, however, was started by the team by 2015 itself. With critical R&D support and funding from IIT Kanpur, the Phool team started with making incense sticks from flower waste and then introduced the ‘Fleather’ as an alternative to animal-based/plastic leather.

Fleather by PHOOL.Co will now be in the running to receive a £1 million award at the second-annual Earthshot Prize awards ceremony to be held on December 2 in Boston. The Prize takes inspiration from President John F. Kennedy’s ‘Moonshot’. The finalists were selected from more than 1,000 nominations following a rigorous 10-month selection process by a panel of advisors with expertise in science, conservation, innovation, investment, economics, politics and activism. Fleather by PHOOL.Co has been shortlisted in “The Earthshot Prize to Build A Waste-Free World” category.

While unveiling the finalists, Prince William said, “The innovators, leaders, and visionaries that have made it to the 2022 Earthshot finalists prove there are many reasons to be optimistic about the future of our planet. They are directing their time, energy, and talent towards bold solutions with the power to not only solve our planet’s greatest environmental challenges but to create healthier, more prosperous, and more sustainable communities for generations to come.” Prof. Abhay Karandikar, Director IIT Kanpur congratulated the Phool team, “I am delighted to learn about ‘Fleather’ developed by our incubated startup Phool being shortlisted as one of the finalists for the prestigious Earthshot Prize 2022.

IIT Kanpur had assisted the startup with critical R&D and incubation support from the start. From transforming flower waste into incense sticks to creating the vegan alternative to animal leather – Fleather, the sustainable model that the startup has been following truly benefits the environment and helps the economy grow. Their support to underprivileged families and rural women through employment is an inspiring model in itself. My heartiest congratulations to Ankit Agarwal, Founder & CEO, PHOOL and his team, and best wishes for the way ahead.”

Prof. Amitabha Bandyopadhyay, Co-Professor-in-charge, Innovation and Incubation, IIT Kanpur, says, “I always believed in this startup as it serves the ecosystem and uplifts the underprivileged workforce in numerous ways. Fleather has been able to resolve the most prevailing environmental challenges through flower waste, which, as an idea, should definitely be globally recognised. Congratulations to PHOOL.Co on this accomplishment.”

In addition to their eligibility for the £1 million prize, all Finalists will receive tailored support and resources from the Earthshot Prize Global Alliance Members, an unprecedented network of private sector businesses around the world committed to helping scale innovative climate and environmental solutions and multiplying their impact.

Since its inception, more than 11,060 metric tons of flower waste collected every day from the temples in Uttar Pradesh, especially from the ghats of River Ganga, has been recycled at PHOOL. By the power of flower cycling, SIIC IIT Kanpur-incubated startup PHOOL stops 7,600 kilograms of waste flowers and 97 kilograms of toxic chemicals from getting into the river every day, along with providing livelihood to 1200 rural families and employment to 73 women ‘flowercyclers’ to create ‘Fleather’. Big fashion houses like Anita Dongre have also shown interest in Fleather – a breathable and tensile material and sustainable leather alternative felicitated by PETA India at the CDC’20.

Prof. Ankush Sharma, Professor-in-charge, Innovation and Incubation, IIT Kanpur, congratulated the team of Phool, “I am overwhelmed by the revelation of the finalists by Prince William as I have seen the incredible journey of PHOOL Co.’s Fleather and how far they have come starting from our incubation centre.”

Ankit Agarwal, Founder & CEO, Phool.co expressed his gratitude on qualifying as a finalist and also for the incubation support by SIIC IIT Kanpur, saying, “We are grateful for IIT Kanpur’s belief in us and their consistent support. The Earthshot Prize Awards is an amazing opportunity, and it will encourage us to do our utmost to solve Ganga’s floral waste problem and make this planet a better place”.

Five winners among the fifteen will be selected by the Earthshot Prize Council that include: HRH Prince William, Her Majesty Queen Rania Al Abdullah of Jordan, Cate Blanchett, Daniel Alves Da Silva, Sir David Attenborough, Ernest Gibson, Hindou Oumarou Ibrahim, Jack Ma, Shakira Mebarak, Yao Ming, Luisa Neubauer, Indra Nooyi, Dr. Ngozi Okonjo-Iweala, and Naoko Yamazaki.

The Earthshot Prize convenes a diverse nominator coalition of more than 200 people and organisations around the world from every continent, a distinguished Expert Advisory Panel, and The Earthshot Prize Council comprising influential individuals committed to championing positive environmental action. The fifteen Finalists were assessed by the Expert Advisory Panel of scientific, academic, and subject-matter leaders.
The Earthshot Prize awards ceremony will take place on Friday, December 2 at the MGM Music Hall in Boston. It will premiere on Sunday, December 4, 2022.

About SIIC, IIT Kanpur:
Startup Incubation and Innovation Centre (SIIC), IIT Kanpur, is one of the oldest incubators in the country. It was established in 2000 when the entrepreneurial ecosystem was still at a nascent stage in India. The multifaceted and vibrant incubation ecosystem at IIT Kanpur, nurtured for over two decades, prospers to fill the gaps on the road to converting an idea into a successful and meaningful business model. The domain expertise combined with the infrastructural prowess of the academic institute has collectively demonstrated a knack for tremendous social impact and technological advancement over the years.

About PHOOL.Co:
Phool.co is an innovative startup focused on the circular economy which converts floral waste into Charcoal-free Luxury incense products and other wellness products. The startup is also India’s first wellness brand to have Fair for Life- Fairtrade and Ecocert Organic & Natural certifications. With deep-tech research, the startup has also developed “Fleather” leveraging their flowercycling technology. Fleather is a viable alternative to Animal leather which was recently awarded PETA’s best innovation in the Vegan World.

About The Earthshot Prize:
Founded by Prince William and The Royal Foundation in 2020, The Earthshot Prize is a global environmental prize to discover, accelerate, and scale ground-breaking solutions to repair and regenerate the planet. Inspired by President John F. Kennedy’s Moonshot which united millions of people around the goal of reaching the moon, the Earthshot Prize aims to catalyse an Earthshot challenge to urgently encourage and scale innovative solutions that can help put the world firmly on a trajectory towards a stable climate, where communities, oceans, and biodiversity thrive in harmony by 2030.

● Fleather – a revolutionary alternative to leather by IIT Kanpur-incubated startup Phool.co has been selected as one of the finalists for the Second Annual Earthshot Prize Awards.
● Launched in 2020 by HRH Prince William, The Earthshot Prize is one of the most prestigious environmental awards.

कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया

0
Dr. R.K. Singh

आज विविध भारती पर एक पुराना गाना आ रहा था जिसके बोल कुछ इस प्रकार थे:
“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया…..” इससे लेखक को यानि मुझे वह ऐतिहासिक घटना याद आ रही है जब सन् 1982 में राजश्री वाले सूरज बड़जात्या के कहने पर गुंजा को लेकर चन्दन जौनपुर के केराकत गाँव से ‘नदिया के पार’ अपने गाँव जा रहा था। तब गुंजा ने पूछा था कि “कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया”।

मुझे आज तक समझ नहीं आया कि गुंजा के बार-बार पूछने पर भी चन्दन ने दिशा क्यूँ नहीं बताई? यहाँ तक कि अंत में निराश होकर गुंजा ने यह भी कहा कि “कितनी दूर अभी कितनी दूर है, ऐ चंदन तोरा गाँव हो”, मगर चन्दन बाबू ने आज तक कोई जवाब क्यूँ नहीं दिया यह समझ से परे है? अब इसका जवाब आदरणीय रविन्द्र जैन साब ही दे सकते हैं!
फिलहाल ‘बटोहिया’ की बात करें तो यूपी में हर हाईवे पर बटोही रेस्त्रां बाट जोहते मिल जाएँगे। अब कोई-कोई तो वास्तव में दिन भर बाट ही जोहते रह जाते हैं।

अब ये ‘रेस्त्रां’ शब्द भी गज़ब है लिखो रेस्टोरेंट और पढ़ो रेस्त्रां। हम हिंदी वालों को तो इतना पता है कि जो लिखो सो बोलो और जो बोलो वही लिख मारो। कौनौ लाग-लपेट नहीं। और यह फ्रेंच तो अपने आधे शब्दों को मूक कर देती है। लंबे-लंबे शब्द और आधे को पढ़ना ही नहीं। बेचारे दिशा विहिन सोचते होंगे कि, जब हमें पढ़ना ही नहीं तो हमें यहाँ बैठाया क्यूँ? अब ‘फ्रेंच’ यानी फ्रांसीसियों को दुनिया के कुछ सबसे अंधविश्वासी लोगों के रूप में जाना जाता है। अंधविश्वास फ्रांसीसी संस्कृति में निहित हैं, दिशा तो छोडिये वे तो लेफ्ट, राइट, ऊपर, नीचे को लेकर भी दिशा भ्रमित रहते हैं। फ्रांसीसी मानते हैं कि शैतान आपके बाएं कंधे पर रहता है, इसलिए उस दिशा में नमक फेंकने से आपके आस-पास की कोई भी बुरी ऊर्जा दूर हो जाएगी। भूल कर भी अगर कभी किसी फ्रांसीसी को उलटी रोटी दे दी तो समझ लीजिये संबंधों का कबाड़ा हो गया। यह तो एक फ्रांसीसी के लिए बहुत बड़े दुर्भाग्य का सूचक माना जाता है।

दुनिया का सबसे पुराना परफ्यूम भी फ्रांस में ही बनता है। और वह 1889 से अब तक लगातार बनता आ रहा है उस ब्रांड का नाम ‘जिकी’ है। और यह काफी पहले ही उजागर हो चुका है कि इसको बनाने के लिए भारतीय चन्दन का ही प्रयोग होता है।
और एक ये चन्दन है कि आज चालीस साल बाद भी गुंजा को ये नहीं बता पा रहा है कि “कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया…।”

डॉ आर के सिंह, वन्य जीव विशेषज्ञ, स्तम्भकार एवं कवि

CHEETAH- REINTRODUCTION OF ‘THE APEX PREDATOR’ IN INDIA’

0
Dr. R.K. Singh

When the word “cheetah” falls in our ears, the image of a wild animal that is known for its amazing agility and speed automatically emerges in the mind.

Cheetahs (Acinonyx jubatus) are big cat according to their size but they are quite different from other big cats like Lion, Tiger, jaguar and Leopard which roar and have retractable claws however cheetahs never roar but purr like small cats and possess semi retractable claws to maintain traction on the ground i.e. offer extra grip in its high-speed pursuits. They are placed in subfamily felinae of family felidae with small cats. While all big cats are kept in subfamily pantherinae of the same family felidae. 

At present there are only four cheetahs left in the whole of India and that too in the zoological parks of Hyderabad and Mysore. About seven decades i.e. 70 years ago this beautiful wild animal had become extinct from the forests of India.

It is said that in the year 1948 there were only three cheetahs left in country. It was a matter of misfortune that these three were also killed by the a Maharaja of Madhya Pradesh in his hunt. After that an attempt was made to find this beautiful beast for about four years but it all went into vain and finally in the year 1952 this beautiful big cat was declared extinct from the forests of India by the government. Main reason for extinction of cheetahs from indian forests was sport hunting and were also tamed and used to hunt antelopes and deer by the aristocracy.

Now cheetahs, around only 7000 in numbers, occupy only nine percent of its global habitat in 16 countries of Africa apart from Iran in Asia.

Studies also suggest that the word cheetah is derived from the Sanskrit word ‘chitrakaya’, which means ‘multi-colored or the spotted one’ and this proves that there must have been a time when the number of cheetahs on the soil of India was abundant. Cheetahs have mention in vedas especially Rigveda and Atharvaveda and are also seen in cave paintings of neolithic period in central India.

With about 90 cm in height, 130 cm in length and an average weight of 50 to 65 kg, and its long legs, small head, slender body and small dark spots on skin and black tear line on face give him very beautiful and attractive look. 

The black tear marks on its face reduces the strong sunlight, making it easier to hunt even in harsh sunlight.

The long tail and special body structure earn the cheetah the title of the “fastest running land creature” on the earth. Cheetah can accelerate up to a speed of about 95 kilometers per hour in just three seconds, which is much more than today’s modern sports car. Not only this, Cheetah is adept at running up to a speed of about 113 kilometers per hour for few moments.

It is said that the main diet of cheetahs in the forests of India used to be black buck, chinkara, and cheetal deer, but there is some evidence that cheetahs had also made other animals including sheep, goat, dog and nilgai their prey.

The extinction of such important large cat from the forests of India became a matter of concern for the government, and in 1970 the then government started trying to reintroduce cheetahs from Iran to the forests of India. After decades long talks between Iran and India, the talks were stalled as india underwent emergency and Shah of Iran fell from power. Later on Iran demanded Asiatic lions from India in exchange for cheetahs, but as the number of Asiatic lions was already low in India, so government of India rejected Iran’s offer. And as a result of which the ongoing talks with Iran regarding cheetahs were completely stopped. 

But the Ministry of Environment and Forests and Wildlife Institute of India were firmly committed to bring cheetahs to the country and in 2009 it was decided to reintroduced them from Africa.

In this regard, a meeting was organized by the Wildlife Institute of India in Gajner, Rajasthan on the instructions of the Ministry of Environment and Forests, in which the wildlife Institute of India WTI, IUCN, Cheetah Conservation Fund and other NGOs including high officials of most of the states of the country participated and a strategy was chalked out to select the place where the cheetahs brought from Africa would be rehabilitated. After a long study, in January 2022 it was decided to reintroduce the cheetahs brought from Africa in ‘Kuno-Palpur National Park’ in the state of Madhya Pradesh. In this regard an agreement between India and Namibia was signed on 20th July 2022.

It is a matter of great pride for all the countrymen that on 17th September 2022, a total of eight cheetahs brought from Africa, that is four males and four females are being reintroduced to 344.6 sq km ‘Kuno-Palpur National Park’ in Madhya Pradesh. Later on Nauradehi in Madhya Pradesh and border area of Shahgarh in Rajasthan will also become cheetah’s new destination.

If all these efforts become successful, then in the coming days all of us will again be able to see this beautiful wildlife roaming, running and hunting in the forests of India.

=> Dr RK SINGH, WILDLIFE EXPERT, COLUMNIST & POET

Startup Incubation and Innovation Centre (SIIC), IIT Kanpur partners with Exotel

0
G P VARMA

Kanpur, August 30, 2022: Startup Incubation and Innovation Centre (SIIC), the technology business incubator at IIT Kanpur has partnered with Exotel. Exotel is a full-stack customer engagement platform and virtual telecom operator that offers secure and reliable communications on the cloud.
Powering 70 million+ daily conversations, Exotel’s unified stack enables 7000 global businesses to deliver unified CX with omnichannel capabilities and rich automation through AI voice and chatbots.
In its partnership with SIIC IIT Kanpur, Exotel is extending its startup pack to the SIIC Startup community, which would enable the incubated startups to access their flagship products – Voice, SMS, Authentication, Smart IVR, SMS routing, call tracking, CRM & Helpdesk integration, SMS authentication, and other services, free of cost.
To kickstart this partnership, a webinar was conducted by Mr Rajat Mittal, the Startups Partnership Manager at Exotel. The event received participation from 50 startup co-founders across different domains, i.e. healthcare, cybersecurity, AI/ML, robotics, etc.
The partnership with Exotel has received requests from many companies incubated at SIIC, IIT Kanpur, expressing their interest to subscribe to Exotel’s trial in order to understand the exact benefits their services will bring to their respective platforms.
Exotel has been trusted and used by renowned brands such as OLA, RedBus, Quicker, Flipkart, etc.
Exotel’s platform is offering the following services to Startups at SIIC:

  1. Credits worth INR 6,000 with a validity of 6 months that can be used for all three products – Voice, SMS and Authentication.
  2. 1 Exophone (virtual number) with 2 user logins and unlimited departments.
  3. Zero software rental for the first 6 months with enterprise-grade customizations and a dedicated account manager.

Christ Church College celebrated Azadi ka Amrit Mahotsav

0
G P VARMA

Kanpur August 15, The Independence Day at the Christ Church College this year created a spirit of pride among students. Nationalistic fervor and limitless enthusiasm was visible among the college fraternity and the students on the completion of uhSeventy-five years journey of Indian Independence.

The College has been celebrating the national festival by organizing a weeklong activity by college students. Various events included a Selfie with Tiranga contest, Essay writing, Rangoli competition, Quiz, and a cultural gala on 15th August. All these events were planned and organized by the college co-curricular committee. 

The event in the college started with the Tiranga flag hoisting by alumna chief guest Jayshree Tiwari Former Justice, Allahabad High Court and Principal and Secretary Prof. Joseph Daniel. The national anthem was sung.

Independence Day celebrations at Christ Church College

Dr. Mahalwal, Secretary College Alumni Association, conducted the flag hoisting program. College teachers and staff members including
Dr. Sabina Bodra (Vice-Principal) and Profs. D.C. Srivastav, Shipra Srivastav, Sujata Chaturvedi, Meetkamal, Ashutosh Saxena, Shalini Kapur, and others were present on the occasion.

A colorful cultural program by students followed the flag hoisting ceremony. Swikriti performed Bharatnatyam on Vande Mataram, Shrajal and Vedant recited their self-written poems, and Vivek Paul gave a tribute to the Indian Army through his western dance. Humdah, Naba, Kashish, and Sharon filled the atmosphere with their mesmerizing singing of songs such as Jai ho, Watan mere abaad rahe tu, and Aie mere watan ke logon. The college band of Utkarsh, Ruhanika, Honey and Udit performed on Sandese aate hain and Vande Mataram.  It felt like everyone was swept off into the sea of melody and nationalistic spirit.

Students performed a short play on “Bantwaare ki Traasdi” based on famous writer Manto’s story “Tuba Tek Singh ” a very emotional and tear-jerking portrayal of the horrors of partition.

Cultural Committee Convener Dr. Vibha Dikshit planned and directed the short play with her team. Artists included Vedant, Dev, Nagendra, Utkarsh, Harshit, Abhishek, Priti, Gauravi, Vivek, Sahil,  Priti, Rama, Sahil, Swapnil, and others.

The cultural gala concluded with a highly charged group dance on “Rang De Basanti.” It filled the atmosphere with a high nationalistic zeal. Vivek, Swikriti, and Maanvi choreographed the group dance, and the dancers included Swapnil, Sahil, Dev, Kashish, Anjana, Nikita, and Sneha.

Everyone was enthralled by the students’ performances of the college cultural committee.Dr Vibha Dixit the convenor of the cultural event organized the events with her team members including Hina, Archana, Sakshi, and student representatives Vedant, Maanvi, Abhishek, Udit, Naba, Nagendra, Esha, and others. 

The event enthralled everyone with immense joy and evoked love for the country. Audience greeted Tiranga over the song Ghar Ghar Tiranga.

Recent Posts