Home Blog

SGPGI Lucknow(india) and IIT Kanpur (India)to set up the Centre of Excellence(CoE) in Telemedicine and Healthcare Robotics

0
G.P. Varma

Highlights

• The CoE will facilitate an interdisciplinary approach to public health and strengthening health systems.
• Medical and engineering professionals will be able to pursue courses in digital health to nurture a nuanced skill set.
• The initiative aims to make affordable healthcare accessible and blur borders in the pursuit of innovation in healthcare.

Kanpur, Uttar Pradesh (India)- Sanjay Gandhi Postgraduate Institute (sGPGI)of Medical Sciences, Lucknow and Indian Institute of Technology ( IIT )Kanpur signed an MoU to advance innovation in accessible healthcare through indigenous solutions.

Under the MoU, the institutes will set up a Centre of Excellence in Telemedicine and Healthcare robotics to nurture smart healthcare with an overarching objective of strengthening healthcare systems. areas.

The MoU signing ceremony, held on 29th June 2021 was graced by key members from both institutes, including Prof. R. K. Dhiman, Director, SGPGI and Prof. Abhay Karandikar, Director, IIT Kanpur.

Prof. Abhay Karandikar while addressing the gathering stated, “Through this initiative, two leading institutions of India will join hands to uphold their vision of a robust, indigenous healthcare system, focused on promoting interdisciplinary innovation.

The MoU is a timely step in the right direction to enable an exchange of ideas across engineering and medicine, as professionals from IIT Kanpur will receive the opportunity to collaborate with specialized doctors at SGPGI, Lucknow.”

Through this MoU, IIT Kanpur and SGPGI Lucknow have agreed to establish an R&D set up for promoting telemedicine aided by Information and Communication Technologies (ICT) and 5G, and point-of-care testing and diagnostics. An integrated network of mobile health vans in rural areas and smart kiosks in urban locales will ensure last-mile connectivity to ascertain availability of emergency healthcare services.

Commenting on the initiative’s vision, Prof. R. K. Dhiman said, “We will jointly launch courses in various fields of Digital Health which is not available in any engineering and medical educational institutions in the country at the moment. Current Corona pandemic has made telemedicine technology very popular and useful tool to bridge the gap between care providers and citizen so there is a need to develop indigenous technology platform and systems in large scale which can be affordable and made available widely.

This will promote entrepreneurship and develop a rural health system which can be deployed far and wide to strengthen the health system. The future holds the key for hybrid healthcare system for which the bond between engineering and medical discipline needs to be strengthened. In that context the timing of handshake between the two major institutions is appropriate which is going to yield immense benefit to the society.”

Role of IIT Kanpur

Any telemedicine system is about creating a network of expected beneficiaries and medical experts and integrating them together in a digital platform. A cost-effective platform consisting of hardware sensors and
IOT controller devices needs to be developed for collecting patient health data. The system has to be integrated with cloud servers and mobile apps. In this regard, the role of IIT Kanpur will include:

• Development of such portable IoT enabled health care systems along with point-of-care testing and diagnostics.

• Designing customized mobile vans and kiosks equipped with AI-based diagnostics.

• Integrating multi-lingual avatars with systems to give patients the feel of the presence of a doctor or a care giver. The avatars would especially be essential for patients with mental health disorders and elderly care.

Role of SGPGI, Lucknow

SGPGIMS, Lucknow has set up a School of Telemedicine & Biomedical Informatics in the year 2006 with the objective of teaching and training healthcare personnel and clinical engineers tools and strategies of ICT-enabled health care. It has received a major Grant-in-Aid from Ministry of Electronics & IT, Govt. of India in 2007 to elevate the school to a National Resource Centre in Telemedicine & Biomedical Informatics which was continued for five years. Later from the year 2007 till date the facility and trained technical human power has been supported by Ministry of Health & Family Welfare, Govt. of India to develop and manage the National Medical College Network as the national resource centre. With the collaboration with IIT Kanpur & the Centre of Excellence, the engineering aspects of clinical application of digital technologies can be addressed. Backed with two decades of experience in application-oriented telemedicine research, development, and deployment, SGPGI’s collaboration with IIT Kanpur will foster synergies to cultivate an ecosystem at the intersection of technology and healthcare through capacity development.

तीन पहलू

0

Dr. Rakesh Kumar Singh
तेज धूप
पसीने से लथपथ
भूख से बेहाल
पत्थर तोड़ता मज़दूर।

पेड़ की छांव
कोरा कागज
मज़दूर की व्यथा लिखता
कलम का सिपाही।

सुसज्जित वातानुकूलित कक्ष
शीतल पेय
मज़दूरों के हालात पर
चर्चा करते कानूनविद।

Startup Incubation And Innovation Centre IIT Kanpur to set up ten Oxygen Plants in June’21

0

G.P. Varma
Kanpur – UP: Startup Incubation and Innovation Centre,(SIIC) Indian Institute of Technology (IIT Kanpur) launched the Mission Bharat O2 in May 2021 to address the oxygen crisis in India, with an overarching objective of promoting indigenous manufacturing at par with global standards.

The initiative, led by Prof. Amitabha Bandyopadhyay, Professor In-charge, Innovation and Incubation, IIT Kanpur, Srikant Sastri, Director, FIRST-IITK and Chairman, I3G Advisory Network, and Rahul Patel, Head of Strategic Initiatives, SIIC IIT Kanpur will focus on the production of oxygen plants of 250 LPM and 500 LPM capacities.

Mission Bharat O2 is a step towards the larger vision of SIIC to nurture a self-sustainable healthcare system in India. Besides selected manufacturers, SIIC is keen to partner with interested organizations to execute the project.

The SIIC team has acted swiftly in the past, during the first wave of COVID-19, to deliver an invasive ICU ventilator in just 90 days with Noccarc Robotics. As the second wave reaches rural areas, the team has decided to change its course to adapt to the emerging requirements of the public health system.

A SIIC incubatee, AIPL( (https://www.acquainfra.com/), has developed the design for the oxygen plant and is a manufacturing partner as well. SIIC will work with four other partner manufacturerd Avadh Rail Infra Ltd (Tamil Nadu),Pullman Engineering Pvt Ltd (West Bengal), Energy Pack Boilers Pvt Ltd (Gujarat), and International Cylinders Pvt Ltd (Himachal Pradesh).

Each manufacturer has been selected from a different part of the country to ensure widespread availability of the finished product.The plan will form a blueprint for the selected manufacturers, who will set up ten plants by the end of June 2021, and 50 over the coming months. SIIC’s strong ties with the local hospitals and administration will pivot their combined efforts to support the public health system.

With Mission Bharat O2, SIIC IIT Kanpur has taken a step forward to make the Indian healthcare manufacturing ecosystem self-sustaining by reducing dependence on imports. Commenting on the urgency of the situation, Professor Amitabha Bandyopadhyay says, “During the first wave of COVID-19, SIIC and its companies delivered the Swasa N-95 masks and the Noccarc V310 ICU ventilator. Both products, developed locally, were a testament to Indian manufacturers’ capability to deliver in times of urgency. With Mission Bharat O2, we look further to equip healthcare systems with world-class medical infrastructure.”

With the second wave of COVID-19 leading to irreparable loss of human life, the public health systems are still struggling from pillar to post to arrange for life-saving drugs, oxygen, and hospital beds. As the pandemic reaches the hinterlands of India, scarce public health services have become overstretched, with total deaths above 4,000 a day. SIIC’s efforts under Mission Bharat O2 will support healthcare facilities to flatten the curve and provide critical care.

The SIIC IIT Kanpur legacy of delivering purpose with profit stands true to its ground in the global health emergency. Mr Srikant Sastri, the co-lead of Mission Bharat O2, commented, “The true spirit of innovation lies in the innovator’s ability to adapt to the dynamic demands of the ecosystem. The COVID-19 pandemic has allowed us to capitalize on the untapped potential of the local manufacturing landscape to answer India’s healthcare needs. We believe that the Mission Bharat O2 will chart the course for making local manufacturing the new normal.”SIIC, IIT Kanpur aims to turn India into a self-sustainable powerhouse of quality healthcare equipment developed within her borders. Mission Bharat O2 is a crucial step towards that vision.

About Start-up Incubation and Innovation Centre (SIIC), IIT Kanpur

Start-ups and social enterprises are vital to addressing development challenges, especially in emerging economies such as India. With path-breaking innovation brewing at incubator start-ups, SIIC IIT Kanpur aims to create impact from the bottom of the pyramid. Established in 2000, Start-up Incubation and Innovation Centre (SIIC), IIT Kanpur, is one of the oldest technology business incubators with many successes under its belt. Nurtured over two decades, the multifaceted, vibrant incubation ecosystem helps convert an idea into a business. The incubator has developed an experience base and networks critical to developing early-stage, technology-focused start-ups that disrupt paradigms across domains, including agriculture, healthcare, aerospace, energy, water, and education.

Websites-

1. https://siicincubator.com/
2. https://www.bharato2.in/
3. https://www.acquainfra.com/

IIT Kanpur launches eMasters in Cyber Security, Communication Systems, Power Sector Regulation, and Commodity Markets

0

G. P. Varma
Kanpur: The Indian Institute of Technology Kanpur (IIT Kanpur) today announced the launch of four new e-Masters programs to enable seamless remote learning during this pandemic. The e-Masters programs will provide an online learning environment that will deliver course content completely online and help upskilling of working professionals with industry experience and expand their career options. The four eMasters include programs in Communication Systems, Cybersecurity, Power Sector Regulation, Economics & Management, and Commodity Markets & Risk Management. The programs can also be sponsored by corporates for their employees.
The programs are expected to commence from mid-August. The admissions to the programs will take place in July. The details regarding eligibility, admission and fees will be announced soon on the institute website.

                                                                   Prof. Abhay Karandikar, Director IIT Kanpur

Prof. Abhay Karandikar, Director, IIT Kanpur said, “In order to be effective and remain relevant in the evolving scenarios, professionals are required to continually upgrade their knowledge and keep up with the latest developments in diverse fields. It has, therefore, become imperative to provide access to a complete ecosystem of knowledge. IIT Kanpur is introducing e-Masters degree program to address the said requirement. The e-Masters program is expected to help employed personnel from industry and various other backgrounds enhance their skill sets and improve their employability. The program will also help people enhance their qualification by obtaining a formal degree in state of the art areas.”

The e-Masters in Cyber Security addresses the increasing need for securing information in the digital world. The demand for professionals trained in cybersecurity tools is expected to be more than 1 million from defense, banking, retail, power, transportation, computing, and related fields. With the strongest expert group in cybersecurity as faculty drawn from the Center for Cyber Security of Critical Infrastructure, and the Technology Innovation Hub in Cyber Security, working professionals would be able to equip themselves with skills necessary to be successful in roles that involve securing networks against attackers.

The new e-Masters in Communication Systems would arm working professionals with a comprehensive appreciation and knowledge of modern digital communications systems. The program will address the need for trained professionals given the rapid developments in the field of communications with 5G, 6G and Edge Computing being introduced in the country.

The e-Masters in Power Sector Regulation, Economics and Management would be a multi-disciplinary program providing a conceptual understanding of power sector regulation from an engineering, economic and regulatory perspective covering electricity markets, regulatory process, etc. This would be beneficial to working professionals from engineering, management, finance, economics, law, and public administration.

The e-Masters in Commodity Markets and Risk Management will tap the growing demand for commodity derivatives specialists.The rising share of commodity derivatives trading and India’s rising role in global commodity markets requires trained experts to navigate the highs and lows to emerge successful. The e-Masters will provide sustained training opportunities to the budding traders, commodity market specialist and experienced professionals. The program aims to catalyse investors’ awareness and invites the big commodity giants to sponsor candidates for the course.

The e-Masters would be completely online program with well-designed Industryrelevant course content, assignments, and projects, designed and deliveredby the best faculty at IIT Kanpur. Candidates enrolled in the program will have to complete a certainfixed number of courses in a flexible time period. The program will also include two weeks of on-campus practicaltraining involving lab sessions, demonstrations, and labvisits that will give them hands-on exposure to cutting-edge areas and developments in technology.

कश्मीर से कन्याकुमारी तक लहलहाएगी सीएसए द्वारा नवविकसित राई-सरसों की प्रजातियां

0
Dr. Mahek Singh
Dr. R D Singh

कानपुर, आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कानपुर द्वारा नवविकसित राई- सरसों की दो उदयीमान प्रजातियां आजाद महक ( के एम आर( ई)15-2) एवं सरसों( तोरिया) की प्रजाति आजाद चेतना (टीकेएम 14-2) अब कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक देश के लगभग सभी राज्यों के लिए केंद्रीय सरकार द्वारा बीज अधिनियम 1966 (1966 क 54) की धारा 5 द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए केंद्रीय बीज समिति ने परामर्श के उपरांत सीएसए द्वारा नव विकसित राई-सरसों की प्रजातियों को बीज एवं फसल उत्पादन की श्रेणी में शामिल किया है।

बकृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय , नई दिल्ली में 15 मई 2021 को आहूत हुई 68 वी बैठक में इन प्रजातियों को शामिल कर बीज एवं फसल उत्पादन हेतु पूरे देश के लिए संस्तुति कर दिया है।

विश्वविद्यालय के अनुवांशिकी एवं पादप प्रजनन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ महक सिंह ने बताया कि राई की आजाद महक प्रजाति उच्च ताप सहिष्णु एवं अगेती बुवाई हेतु उत्तम है। उन्होंने बताया कि इसकी उत्पादन क्षमता 24 से 25 कुंतल प्रति हेक्टेयर है तथा बुवाई के 120 से 125 दिन बाद पक कर तैयार हो जाती है। साथ ही इस प्रजाति में तेल प्रतिशत 41.6 से 42.1% है डॉ सिंह ने बताया कि यह प्रजाति अल्टरनरिया झुलसा एवं सफेद गेरुई रोग के प्रति प्रतिरोधी है।

डॉ महक सिंह ने सरसों (तोरिया) की आजाद चेतना प्रजाति की विशेषताओं के बारे में बताया कि यह प्रजाति सहफसली फसलों के लिए उपयुक्त है।तथा यह 90 से 95 दिनों में पक कर तैयार हो जाती है।और इसका उत्पादन 12 से 14 कुंतल प्रति हेक्टेयर है। साथ ही इस प्रजाति में 42.2 से 42.4% तेल पाया जाता है। इसके अतिरिक्त यह प्रजाति भी अल्टरनरिया झुलसा और गेरुई रोग के प्रति प्रतिरोधी है।

विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर डी.आर.सिंह ने बीज समिति की बैठक की कार्यबृत्ति आने पर विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष डॉ महक सिंह एवं उनकी शोध टीम को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।साथ ही कहा है कि देश में विश्व विद्यालय की नवविकसित राई- सरसों की प्रजातियां पीली क्रांति में अहम योगदान देंगी।

जामुन एवं मेथी बीजों के मोमोज और लड्डू से बढ़ाएं रोग प्रतिरोधक क्षमता

0
डॉ. विनीता सिंह

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कानपुर के कुलपति डॉक्टर डी.आर.सिंह द्वारा वैज्ञानिकों को जारी निर्देश के क्रम में विश्वविद्यालय के गृह विज्ञान महाविद्यालय के खाद्य विज्ञान एवं पोषण विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ विनीता सिंह ने जामुन एवं मेथी बीजों के मोमोज और लड्डू से बढ़ाएं रोग प्रतिरोधक क्षमता विषय पर विस्तार से जानकारी दी है। डॉ विनीता सिंह ने कहा कि आज संपूर्ण विश्व करोना महामारी की दूसरी लहर की चपेट में है। तथा तीसरी लहर की संभावनाएं भी जताई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि हम अपने खानपान तथा जीवन शैली का उचित ध्यान रखकर रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं।

डॉ सिंह ने बताया की जामुन एवं मेथी के बीजों का पाउडर बनाकर स्वादिष्ट एवं पौष्टिक व्यंजन बना सकते हैं। विश्वविद्यालय के खाद्य विज्ञान एवं पोषण विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ विनीता सिंह के निर्देशन में जामुन बीजों का चूर्ण और मेथी के बीजों के पोषक तत्व की गुणवत्ता का निर्धारण एवं पोषकीय गुणवत्ता का मूल्यांकन किया गया है। उन्होंने व्यंजनों के बनाने की विधि के बारे में विस्तार से बताया कि मूल्य संवर्धित लड्डू बनाने के लिए विभिन्न अनुपातों में गेहूं का आटा,जामुन के बीजों का पाउडर तथा मेथी बीज का मिश्रण तैयार किया गया। जिसमें 60:36:4, 60:32:8, 60:28:12, एवं 60:24:16 के अनुपात का मिश्रण तैयार किया गया। उन्होंने बताया कि प्रयोगों द्वारा पाया गया कि 60:24:16 के अनुपात से बने लड्डू पौष्टिकता की दृष्टि से उत्तम पाए गए।

उन्होंने बताया कि इस अनुपात से बने लड्डू में प्रोटीन का औसत स्कोर 6.86,वसा 11.80, क्रूड फाइबर 1.31 तथा एस 1.27 ग्राम पाया गया। उन्होंने कहा जबकि इसी अनुपात के मिश्रण से बने मोमोज प्रोटीन का औसत स्कोर 11.28, कार्बोहाइड्रेट 75.67, वसा 1.94,क्रूड फाइबर 0.80 एवं ऐश 1.17 ग्राम पाया गया। उन्होंने बताया कि स्वाद की दृष्टि से 60:36:4 के अनुपातिक मिश्रण वाला लड्डू ज्यादा पसंद किया गया। तथा 60:32:8 के अनुपातिक मिश्रण वाला मोमोज स्वाद की दृष्टि से पसंद किया गया। उन्होंने कहा कि जामुन के बीजों में जंबोलिन और जंबोसिन नामक पदार्थ होता है। जो ब्लड शुगर को बढ़ने नहीं देता एवं शुगर को भी नियंत्रित करता है। इसी प्रकार से मेथी के बीजों में डायोसजेनिन नामक यौगिक होता है जो एस्ट्रोन हार्मोन जैसा काम करता है। जिससे खांसी व गले तथा दातों,गाँठो के दर्द में आराम मिलता है। उन्होंने बताया कि इस तरह के मिश्रण तैयार कर लड्डू व मोमोज का सेवन कर के औषधीय गुणों का लाभ प्राप्त कर शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए रखी जा सकती है। तथा वायरस संक्रमित बीमारियों से बचा जा सकता है।

-चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कानपुर

एक रात बब्बर शेरों के साथ

0

पूर्णमासी की उस रात को मैं कभी नहीं भूलना चाहूंगा, जब शीतल चांदनी में मेरा सामना दुनिया के उस बेख़ौफ़ विडालवंशी से हुआ था जिसे दुनिया बब्बर शेर बुलाती है। हम सब बस एक पलक उसे निहारते रह गए थे। क्या खूब पूरे एक घण्टे तक जंगल के बीच मार्ग पर हमारी जिप्सी को रोके रखा था उसने और उसके कुटुंब ने।

सासण गिर एशियाटिक बब्बर शेरों के विश्व प्रसिद्ध और एकमात्र अभ्यारण्य हैं। जिसके चारों ओर आज 650 से भी अधिक बब्बर शेर एक बड़े क्षेत्रफल में फैले हुए हैं। अपने गिर प्रवास में एशियाटिक शेरों के अध्ययन के दौरान वैसे तो कई बार शेरों से सामना हुआ। परन्तु रात के स्याह अंधेरे में इस निशाचर के साम्राज्य को देखने व समझने की ललक हम सबको बारम्बार लालायित कर रही थी। ऐसे में मानसून की उस चांदनी रात में जंगल से वनराज के दहाड़ने की आती आवाज़ ने हमें एक बार फिर वनों का रुख करने को आकर्षित कर दिया। हमने तत्काल अपने गाइड से जंगल चलने की जिज्ञासा प्रकट की। चूंकि हम शेरों के अध्ययन के लिए आए थे, अतः सुरक्षा उपायों के साथ हमने अपनी जिप्सी को जंगल की पगडंडी की ओर बढ़ा दिया। बरसात के बाद चारों ओर उग आए मौसमी पौधे, जंगल के रास्ते पर जगह-जगह भरा पानी और बरसाती कीड़ों के साथ सुर मिलाते मेंढकों की आवाज़ के बीच उस चांदनी रात में हमारी गाड़ी सागौन व शीशम के जंगल को चीरती हुई धीरे-धीरे आगे बढ़ रही थी।

हमारा गाइड जो पिछले 20 दिनों से हमारे साथ था, अब काफी कुछ हमसे घुल मिल चुका था। उसने बताना शुरू किया कि कैसे एक समय यूरोप से लेकर पश्चिमी एशिया के एक पूरे भूभाग में इस शानदार विडालवंशी का एकछत्र साम्राज्य था। लगभग 100000 से 55000 वर्ष पूर्व यह अपने निकटतम साथी अफ्रीकन शेरों से अलग होकर 20000 वर्ष पूर्व भारत में प्रवेश कर गए। यहां इन्होंने उत्तर पूर्व में गंगा तो दक्षिण में नर्मदा तक अपने साम्राज्य का विस्तार कर लिया था। लेकिन क्रूर मानव विशेषकर राजाओं व बरतानिया हुकूमत के तथाकथित बहादुर महामहिमों (So called ‘His excellency’) ने अपनी झूठी बहादुरी दिखाने के लिए इनका बेहिसाब शिकार किया। एक समय ऐसा आया कि वर्ष 1884 के आसपास इनकी संख्या मात्र 15 के आसपास रह गई। तत्कालीन जूनागढ़ नवाब के शिकार पर प्रतिबंध के बाद भी जब कुछ ब्रिटिश अधिकारियों ने शिकार करना जारी रखा, तो 1901 में जूनागढ़ नवाब को लॉर्ड कर्जन को शिकार रुकवाने हेतु पत्र लिखना पड़ा। परिणामस्वरूप वन विभाग के सहयोग से आज सौराष्ट्र क्षेत्र के लगभग 22000 वर्ग किलोमीटर में लगभग 650 बब्बर शेर घूम रहे हैं।

इस बीच मेरे साथी ने थर्मस से कॉफ़ी को प्याले में भरकर मेरी ओर बढाते हुए कहा “लो चांदनी रात में शेरों के साम्राज्य के बीच कॉफ़ी का आनन्द भी ले लो”। सचमुच मद्धिम सी चलती मानसूनी शीतल पवन और झींगुरों के प्राकृतिक संगीत के बीच कॉफ़ी का वो प्याला मैं आज भी नहीं भूल सका हूँ। मेरे साथी ने कॉफ़ी की चुस्की लेते हुए बात को जारी रखा, “1947 में भारत के बंटवारे के समय नवाब जूनागढ़ को पाकिस्तान में मिलवाना चाहते थे। पर जनता के भारी विरोध के कारण वह अपने पालतू कुत्तों के साथ अपने प्रधानमंत्री शाह नवाज़ भुट्टो (बेनज़ीर भुट्टो के दादा) के कहने पर पाकिस्तान चले गए। और इस प्रकार गिर व गिर के बब्बर शेर पाकिस्तान जाने से बचे व भारत का गौरव बन गए”।

तभी अचानक हमारी गाड़ी के एक झटके से रुकने से हम सबकी तन्द्रा टूटी। हमारे गाइड ने जिप्सी की लाइट बंद कर दी थी और उसने चांद की दूधिया रोशनी में सामने इशारा किया। क्या खूबसूरत नज़ारा था वह, चारों ओर ऊंचे पेड़ों से घिरे उस छोटे से मैदान व जंगल की पगडंडी के बीच शेरों का वह कुनबा जैसे हमारे आने का ही इंतज़ार कर रहा था। बड़े बेफिक्र से बैठे वे शेर अपने में ही मस्त थे। एक शेरनी आराम से लेटकर दो बच्चों को दूध पिला रही थी। एक अन्य बच्चा कुछ ज्यादा ही चंचल सा बार-बार जिप्सी की ओर बढ़ने की कोशिश कर रहा था, परंतु उसे दूसरी शेरनी हौले से अपनी ओर खींच लेती थी। एक बार तो उस बच्चे को इंसानी बच्चों की तरह चपत भी पड़ी। इस बीच दूध पीने वाले बच्चे अपनी माँ को छोड़ दूसरी शेरनी का दूध पीने लगे। शेरों के कुनबे में सभी शेरनियां एक दूसरे के बच्चों का ख्याल रखती व दूध पिलाती हैं। दो अन्य युवा शेरनियां भी अपनी मस्ती में एक दूजे के गाल से गाल रगड़ कर आपसी प्रेम का इज़हार कर रही थीं। थोड़ी ही दूरी पर दो युवा शेर जिनके गले पर बाल आने प्रारंभ ही हुए थे अपनी ही मस्ती में थे। और जंगल का राजा पास के एक टीले पर बैठा अपने साम्राज्य पर नज़र रखे था। पूरे दस शेरों से सामना हम सबको उद्वेलित कर रहा था। हम शांत भाव से अपलक प्रकृति के उस अनमोल हार को निहारते रह गए। दोनों युवा शेरनियां अब हमारी गाड़ी के इतनी नजदीक आ चुकी थीं कि हम उनकी साँसों की आवाज़ तक सुन सकते थे। शेर एक सामाजिक प्राणी होते हैं व सदैव कुटुंब में रहते हैं। हालांकि जवान नर शेरों को प्रकृति के नियमानुसार अपना नया कुटुंब व साम्राज्य स्थापित करने के लिए परिवार छोड़ना पड़ता है। इस बीच शेरनियों को देख दोनों युवा शेर भी अब हमारी गाड़ी के चारों ओर मंडराने लगे। हमारी धड़कने बढ़ती जा रही थीं। हमारा रोमांच चरम पर था। आज समझ आया कि यूं ही गिर फॉरेस्ट को लाइव डिसकवरी चैनल नहीं कहा जाता है। तभी टीले पर बैठे वनराज की दिल को दहलाने वाली दहाड़ ने जंगल को गुंजायमान कर दिया। इस बीच शेरनियों ने भी दहाड़ कर उसका साथ देना शुरू कर दिया।

तभी हमारे गाइड ने कहीं दूर से दो अन्य शेरों की आती दहाड़ की ओर ध्यान आकर्षित किया। दोनों आवाज़ बड़ी तेजी से हमारी ओर बढ़ रही थीं। तभी शेरों के पूरे कुटुंब में अफरा-तफरी जैसा माहौल हो गया। इतने दिनों के हमारे शेरों के अध्ययन से हमें समझ आ गया कि अब हमें यहां से अविलम्ब वापस लौट लेना चाहिए। क्योंकि आज रात यहां वह घटित होने वाला था जो अब तक हम टीवी चैनलों पर देखते व किताबों में पढ़ते आये थे। जी हां, आपका सोचना बिल्कुल सही है, आज रात कुछ ही देर में यहां वर्चस्व की वो खूनी जंग होने वाली थी जिसके बारे में सोचकर ही इंसान कांप उठता है। लेकिन यही प्रकृति का नियम है। इस सम्बंध में अफ्रीका के क्रूगर नेशनल पार्क के मपोगो लायन ब्रदर्स की खूनी लड़ाइयों की रोमांचक सत्य कहानी रोंगटे खड़े कर देती है। इन छः शेर बागियों ने अपने साम्राज्य के चरम पर सौ से अधिक शेरों का संहार किया था। फिलहाल शेरों के इस रोमांचक संसार के बारे में हम श्रृंखला बद्ध फिर कभी बातें करेंगे।

आज रात की जंगल की कॉफ़ी और दस शेरों से सामना लगातार मेरे मन मस्तिष्क को रोमांचित कर रहा था। मेरे साथी के मुंह से महेंद्र कपूर के पुराने गाने की निकलती सीटी की धुन, “संसार की हर शै का इतना ही तो फसाना है, एक धुंध से आना है, एक धुंध से जाना है,” रात में जंगल की ड्राइविंग को और रोमांचक और यादगार बना रही थी। दूर क्षितिज में बादलों की ओट से झांकता चंद्रमा सासण गिर के शेरों के आज रात होने वाले एक और अंतहीन खूनी संघर्ष और बदलते साम्राज्य का गवाह बनने वाला था। हमारी जिप्सी एक बार फिर जंगल का सीना चीरती हुई आगे बढ़ रही थी। इस बार गाड़ी का ड्राइविंग हैंडल मेरे हाथ में था।

डॉ राकेश कुमार सिंह,
वन्य जीव विशेषज्ञ व वेटेरिनेरियन

How to handle it If You Start out Dating Following Being Widowed

0

Dating following being widowed can be a wide range of fun in the event you know what to accomplish and what not to do. To begin with you have to recognize that you are no longer solo and have to get over this feeling of isolation and desperation. This is especially true for those who have children you must care for. Most widows find the concept of online dating a little bit puzzling and even distressing at first. There are several tips and tricks that may help you enjoy your brand new found liberty.

Dating following being widowed is simpler if you have in least you surviving loved one. It is very prevalent for widows to keep all their husbands around because they are also depressed to go on with their life and begin dating. Nevertheless , in reality even though you have a spouse it shouldn’t mean you must stop living to enjoy your newly gained mate. You still have your directly to be with others and marry once the mental journey has calmed down a few things.

If you have not any other living spouse then only choice available for you is to become yourself associated with a new romantic relationship. This is a lot easier if you are not really depressed and haven’t lost interest in the previous wife. Don’t force the issue if you feel like you should. You may feel rejected from your former spouse when you try to date these people again, yet at least have the strength to accept the fact that you have no concern in rekindling the relationship. In case you really love your partner then you should be able to adjust and will find a new partner who shares the interests and hobbies.

Once you have determined a new spouse and you think that this is the correct thing for everyone, remember a very important factor. You have to be patient because possibly after seeing a widowed person your attitude towards him or her it’s still negative. You’re not ready to facial area all the issues that come with having been in a romance with an individual before. That’s why it’s important that you talk to your partner regarding all of the practical concerns in order that there will not be misunderstandings.

Among the common problems that widows experience with dating is the fear of being declined. There’s nothing incorrect with getting cautious, yet there’s also practically nothing wrong with enjoying the process of dating and getting to know an individual a little bit better. A second problem that some girls experience is the fear of not being totally sure what to do just in case the person they may be dating reveals some sort of dysfunction. These fears are quite regular, and even if you were dating a widower previous, there is no rationale that you cannot take advantage of the experience. On the contrary, you should have things slow-moving and build an amount of trust between the two of you.

Finally, do not get too caught up and start internet dating immediately. https://www.bestmailorderbrides.info You may not prefer to, somebody, you still ought to build trust with your spouse first before you begin having sex. Ultimately, there will be not a problem if you start dating again after currently being widowed. It may just be that you are adapting to your new your life and beginning over, and it will make points easier with you than if you try to run into a severe relationship with no building up the mandatory trust.

मैजेस्टिक लॉयन्स ऑफ सासण गिर -बब्बर शेरों का रोमांचक संसार

0

Dr. Rakesh Kumar Singh

सासण गिर के जंगल में चांद अपना आधा साफर पूरा कर चुका था। कभी कभी बादलों के झुंड उसे ढंकने की असफल कोशिश कर रहे थे। उस रात जंगल में गजब की खामोशी थी। बस कुछ सुनाई पड़ रहा था तो वो था सूखे पत्तों का खड़खड़ाना और बरसाती कीड़ों का शोर। इस बीच दो खानाबदोश युवा शेर बड़ी तेजी से जंगल को नापते हुए आगे बढ़ रहे थे। हवा में अजब सा आकर्षण था जो उन्हें अपनी नई मन्ज़िल की ओर खींच रहा था। युवा खून का उबाल अब दहाड़ के रूप में स्पष्ट सुनाई दे रहा था।

इस बीच कहीं दूर एक टीले पर बैठे वनराज की दिल को दहलाने वाली दहाड़ ने जंगल को गुंजायमान कर दिया। उसके कुनबे की शेरनियों ने भी दहाड़ कर उसका साथ देना शुरू कर दिया। कहीं दूर से उन दो युवा शेरों की दहाड़ बड़ी तेजी से इसी कुटुंब की ओर बढ़ रही थीं। शेरों के पूरे कुटुंब में अफरा-तफरी जैसा माहौल हो गया। आज रात कुछ ही देर में यहां वर्चस्व की वो खूनी जंग होने वाली थी जिसके बारे में सोचकर ही इंसान कांप उठता है। लेकिन यही प्रकृति का नियम है।

वनराज की सत्ता को चुनौती मिल चुकी थी। वो यूँ ही सत्ता के शीर्ष पर नहीं पहुंचा था। संघर्ष भरी जिंदगी ने उसे कुछ सबक भी सिखाये थे। और आज उसके अनुभव व बेहिसाब ताक़त दोनों की परीक्षा होनी थी। क्योंकि वह उम्र की ढलान पर था और उसके सामने थे नए खून के साथ जोश से भरे दो युवा शेर। उसने पांच साल इस कुनबे पर ही नहीं गिर के सबसे बड़े कुनबे और बड़े भूभाग पर राज किया था। लेकिन एक बार फिर उसने अपने अनुभव और पैंतरों से आज के खूनी संघर्ष में दोनों युवाओं को मैदान छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया। उसके शरीर पर घाव और उनसे रिसता लहू शेरों के लगातार संघर्षरत जीवन की गवाही दे रहे थे। एक बार फिर वह अपने कुनबे को बचाते हुए अपनी सत्ता पर काबिज था। शेरनियों ने उसके गाल और गले के बालों पर अपने गाल रगड़ कर उसका धन्यवाद देते हुए प्रेम प्रकट किया। इस दौरान एक शेरनी, जो कि शावकों को लेकर कुछ दूरी पर घास में छुप गई थी, पुनः कुटुंब में वापस आ गई।

अभी तीन माह पहले तक आज पराजित दोनों युवा शेर सासण गिर के दूसरे छोर पर एक दूसरे कुटुंब के सदस्य थे। लेकिन जवानी की दहलीज पर उन्होंने वो गलती कर दी थी कि जिसकी सजा उन्हें उन्हीं के पिता ने कुटुम्ब से निकाल कर दी थी। वही पिता जो कुछ ही दिन पूर्व उन्हें बचाने के लिए एक दूसरे बब्बर शेर से लड़ गया था, उसीने उन दोनों को सदा-सदा के लिए त्याग दिया था। लेकिन अगर उन्हें गिर के जंगलों की सत्ता के शीर्ष पर पहुंचना था तो उन्हें अपने कुटुम्ब को छोड़ कर स्वयं अपना साम्राज्य स्थापित करना था। एक ऐसा साम्राज्य जिसमें आने वाली सन्तानों में बेहतरीन डीएनए हों, जिससे आने वाली जनरेशन एक शेर की संघर्षपूर्ण ज़िन्दगी सफलतापूर्वक जी सकें। आज भले ही वे सफल न हो सके हों। परन्तु उनका ये संघर्ष एक दिन अवश्य रंग लाने वाला था। ऐसे खानाबदोश युवा शेर किसी न किसी शेरों के कुटुम्ब की शेरनियों पर कब्जा कर अपना वंश आगे बढ़ाने के लिए लगातार हमले करते रहते हैं।

फिलहाल अभी लौटते हैं विजयी कुनबे की तरफ। कई दिन से शिकार न मिलने से सभी शेरों व शावकों के पेट खाली थे। भोर होते ही सबसे अनुभवी शेरनी ने सांकेतिक भाषा में एक आवाज़ निकाली बाकी की शेरनियों ने भी उसका साथ दिया। शिकार की तलाश में वे जंगलों की तरफ बढ़ने लगीं। आज उनके साथ दोनों युवा शेरनियां भी थीं। जो आज पहली बार सक्रिय रूप से शिकार करने में भाग लेने वाली थीं। शेरनियां शिकार की तलाश में घास के मैदान तक पहुंच गईं। परन्तु उन्हें कहीं भी माकूल शिकार न मिल सका। अनुभवी शेरनी ने अचानक नज़दीक के तालाब की तरफ बढ़ना प्रारंभ कर दिया। बाकी की शेरनियां भी उसका अनुकरण करने लगीं। तालाब पर कुछ चीतल पानी पी रहे थे। शेरनियों ने अपना चक्रव्यूह बनाना प्रारंभ कर दिया। सभी के एक निश्चित स्थान ग्रहण कर लेने पर सबसे पहले अनुभवी शेरनी को आक्रमण करना था। और चीतलों के झुंड में अफरा तफरी मचा कर उनके झुंड को कई भागों में बांट देना था। जिससे कि दूसरी दिशा में घात लगाए बैठी शेरनियां झुंड से अलग हुए चीतल को अचानक आक्रमण कर अचम्भित कर दें। अनुभवी शेरनी ने आगे बढ़ना शुरू किया। लेकिन तभी एक युवा शेरनी ने जोश में अनायास ही पानी पीते चीतलों की तरफ दौड़ लगा दी। नतीजतन सभी चीतल एक ही दिशा में भाग निकले और शेरनियों को खाली हाथ लौटना पड़ा। लेकिन आज का यह सबक युवा शेरनी को ज़िन्दगी भर शिकार के समय धैर्य रखने का पाठ पढ़ा गया। अनुभवी शेरनी ने गुर्राहट के साथ नाराज़गी भी प्रकट की। जरा सी गलती से आज फिर पूरे कुनबे के साथ शावकों को भी भूखा रहना पड़ा।

दो दिन पश्चात एक बार फिर शेरनियां शिकार करने निकली थीं। इस बार शेरनियों के सटीक फॉर्मेशन ओर अचूक टाइमिंग ने एक साम्बर को गिरफ्त में ले लिया। पहली युवा शेरनी ने पीछे से आक्रमण कर अपने भार से साम्बर को सम्भलने का मौका ही नहीं दिया और दूसरी युवा शेरनी ने एक ही झटके में अपने पैंतरे दिखाते हुए उसकी गर्दन में अपने दांत गड़ा कर उसकी श्वास नली को अवरुद्ध कर दिया। अनुभवी मादा ने अपने गाल युवा मादाओं के गाल से रगड़ कर भविष्य की दोनों रानियों का स्वागत किया।

अंग्रेजी भाषा में एक कहावत है ‘लॉयन्स शेयर’। इसी को चरितार्थ करते हुए वनराज वहां पहुंच गया और सभी शेरनियां दूर हट गयीं। मगर युवा शेरनी ने हटने से इंकार कर दिया। लेकिन वनराज की नाराजगी भरी गुर्राहट ने उसे भी हटने को मजबूर कर दिया। शिकार बड़ा था इसलिए आज सबने छक कर खाया। दो माह के शावकों ने भी पहली बार गोश्त का स्वाद चखा। दोपहर तक आराम करने के बाद पूरे कुनबे ने पानी का रुख किया। एक साथ इतने अधिक शेरों को पानी पीते देखना गज़ब का रोमांच पैदा करता है।

कुछ ही दिनों पश्चात कुटुम्ब की एक शेरनी के मासिक चक्र में आने पर वनराज व शेरनी कुटुम्ब से अलग हो गए और इस दौरान दिन में कुछ-कुछ अंतराल पर उनमें कई बार सहवास होता रहा। तीन दिन पश्चात वे कुटुम्ब में वापस आ गए।

तीन माह पश्चात गर्भवती शेरनी कुटुम्ब से दूर एक एकांत में चली गई। शेरों के कुनबे पर नए खानाबदोश नर अक्सर कब्ज़ा करने के लिए आक्रमण किया करते हैं। ऐसे में गर्भवती शेरनियां अधिकतर स्वयम को कुनबे से अलग कर बच्चों का अकेले ही कुछ दिनों तक लालन पालन करती हैं। इसका एक कारण और होता है कि शावक मां के शिकार पर जाने के दौरान अकेले ही स्वयं की रक्षा करने, छुपने आदि के गुर सिख सकें। शेरनी ने निर्धारित 105 दिन की गर्भावस्था के बाद एक साथ चार शावकों को जन्म दिया। नन्हें शावकों की आंखें नौवें दिन से खुलना प्रारम्भ हुईं। इस दौरान शेरनी ने बखूबी उनका ध्यान रखा। यहां तक कि दूसरे शिकारियों विशेषकर तेंदुए व लकड़बग्घे तक शावकों की गन्ध न पहुंचे इसलिए मां ने अपने आपको वहीं रखते हुए आसपास मूत्र व मल आदि त्याग किया। कुछ दिनों से बिना खाये मां का दूध अब सूखने लगे था। इसलिए आज शिकार करना आवश्यक था। मां ने सभी शावकों को यथास्थान रखा। परन्तु एक शावक चंचलता वश बार-बार बाहर निकलने की कोशिश कर रहा था। शेरनी ने उसे हौले से मुंह में पकड़ कर अंदर किया। शाम तक शेरनी एक छोटा सा जंगली सुअर पकड़ लाई। और उसे शावकों से दूर एक झाड़ी में छुपा दिया।

शावक अब बड़े हो रहे थे। उन्होंने मां के लाये गोश्त को अब चाटना प्रारंभ कर दिया था। ऐसे ही एक दिन मां के शिकार से लौटने पर चंचल शावक वहां नहीं मिला। मां ने इधऱ-उधर जाकर कर बार-बार आवाज़ दी। मगर कोई उत्तर नहीं मिलने से उसने सभी शावकों को मुंह में दबा कर सुरक्षित स्थान पर रखा। काफी देर ढूंढने पर भी जब शावक नहीं मिला तो मां अन्य शावकों की चिंता में वापस आ गई। एक शावक को बाहर देख उसने उसे फिर मुंह में पकड़ कर छुपा कर रख दिया। और एक बार पुनः गायब हुए शावक को आवाज़ देकर ढूंढने लगी। थोड़ी ही दूरी पर शावक की गंध पा कर वह तेज कदमों से बढ़ी। लेकिन वहां शावक का मृत शरीर ही था। वह उसे काफी देर तक मुंह से हिलाती रही। लेकिन जब उसके मृत शरीर में कोई हरकत नहीं हुई तो वह उसे जीभ से चाटने लगी। बड़ा हृदयविदारक दृश्य था वह। सम्भवतः किसी तेंदुए ने अपने शत्रु शेरों के चंचल शावक को बाहर देखकर उसे मार डाला था। क्योंकि शावक को सिर्फ मारा गया था खाया नहीं गया था। यही जंगल का नियम है जो नियम तोड़ेगा वह जंगल में नहीं बचेगा।

इस घटना से मां शेरनी को एहसास हुआ कि अब बड़े हो रहे शावकों को कुनबे से मिलाने का समय आ गया है। जिससे कि वह शेरों के सामाजिक ताने-बाने को समझ कर अपने आपको जंगल के अनुसार ढाल सकें। और उन्हें अतिरिक्त सुरक्षा भी मिल सके। माँ शेरनी ने कुनबे का रुख किया।

शावक मां के पीछे चलने लगे। कुटुम्ब से कुछ दूरी पर शेरनी ने गर्दन ऊंची कर अपने कुटुम्ब के सदस्यों को देखा और यह सुनिश्चित किया कि इस दौरान कुछ ऐसा तो नहीं हो गया जो उसके शावकों के लिए नुकसानदेह हो। इसी बीच कुनबे की एक शेरनी ने उसे देख दहाड़ना प्रारंभ किया। सभी सदस्य उस ओर देखने लगे और मां शेरनी के स्वागत में दहाड़ने लगे। मां शेरनी भी दहाड़ते हुए अपने शावकों के साथ कुनबे की तरफ बढ़ी।

प्रारंभ में शावकों को यह सब अजीब सा लगा। परन्तु जब अन्य सदस्यों ने भी उनमें दिलचस्पी दिखाई तो वे भी घुलमिल गए। वनराज भी अपनी सन्तानों को देख खुशी से लगातार दहाड़ने लगा। बच्चे डरकर मां के पीछे छुप गए। मगर माँ शेरनी सावधानी से उन्हें पिता शेर के पास ले गई। वही वनराज जो जरा सी गलती पर भड़क जाता था वो नए शावकों की हर हरकत बर्दाश्त कर ले रहा था।

पांच माह बाद एक अलसाई सी सुबह दूर क्षितिज में कुछ हलचल सी थी। मग़र इन सबसे बेखबर पूरा कुनबा धूप में आराम कर रहा था। तभी हवा में एक विशेष गन्ध ने कुनबे को सावधान कर दिया। सभी सदस्यों में हलचल मच गई। पूरे कुनबे ने दहाड़ना प्रारंभ कर दिया। उसी समय दूर से भी दहाड़ने की आवाज़ें आने लगीं। एक बार फिर वनराज की सत्ता को चुनौती मिली थी। वनराज ने जमकर मुक़ाबला किया लेकिन युवा हमलावरों के पास इस बार ताक़त के साथ ही कई लड़ाइयों का अनुभव भी था। वनराज का ढलता शरीर लड़ाई में शेरनियों के द्वारा साथ देने बावजूद इस हमले को नहीं झेल सका। और उसे अपने कुटुम्ब को उसी प्रकार छोड़ना पड़ा, जैसा उसने पांच वर्ष पूर्व इस कुटुम्ब के सरदार को बेदखल कर किया था। इस बीच एक शेरनी एक शावक को लेकर कहीं छुप गई थी। लेकिन दुर्भाग्यवश दो शावक युवा शेरों की नज़र से न बच सके। जंगल में पराजित शेर की संतान को जीने का हक़ नहीं होता है। क्योंकि तभी युवा शेर अपने नए खून को नए कुटुम्ब की शेरनियों के जरिये आने वाली सन्तानों में पहुंचा सकेंगे। और ताकतवर और स्वस्थ परम्परा को आगे बढ़ा सकेंगे। शेरनियों ने न चाहते हुए भी अपने नए वनराजों का स्वागत किया। वे जानती थीं कि अब उन्हें आने वाली ज़िन्दगी उनके शावकों के हत्यारे इन्हीं नरों के साथ गुजारनी थी।

दूर कहीं पराजित घायल वनराज थक कर चूर बैठा अपने घावों को चाट रहा था। उसकी आने वाली ज़िन्दगी और दूभर होने वाली थी, जो उसे और घाव देने वाली थी। अपने साम्राज्य के चरम पर वह गिर के सबसे बड़े कुनबे और भूभाग पर काबिज रहा था। उसके साम्राज्य का सूरज अस्त हो रहा था। प्रकृति अपना खेल खेल रही थी। सासण गिर में आज का सत्ता परिवर्तन आने वाली शेर की पीढ़ियों के लिए बहुत कुछ लेकर आया था। यह एक आवश्यक और अंतहीन सिलसिला है। जिसकी गवाह शेरों के संघर्ष से लाल हुई गिर की धरती एक बार फिर बनी थी। सासण गिर के गगन में सूरज आसमान की उचाइयां छूने के बाद एक बार फिर क्षितिज में अस्त हो रहा था।

-डॉ राकेश कुमार सिंह, वन्यजीव विशेषज्ञ एवं साहित्यकार

एक गाँव : तीन नाम

0

Mohini Tiwari

दुनिया का हर एक कोना अपनी विलक्षणता के लिए जाना जाता है। इसी क्रम में हरियाणा के सिरसा जिले के पैंतालीसा क्षेत्र में बसा एक गाँव भी शामिल है जोकि राजस्थान की सीमा से सटा हुआ है और अपने तीन नामों के कारण चर्चा का विषय है। लगभग 200 वर्ष पूर्व बसे इस गाँव के 3 नाम है – जोड़कियां , जोड़ांवाली और जोड़ियां।

गाँव के बुजुर्गों के अनुसार प्राचीन काल में गाँव में पेयजल व्यवस्था के लिए कई जोहड़ियाँ बनाई गई थी इसलिए इस जगह को लोग जोहड़ीवाला कहकर पुकारने लगे थे किंतु धीरे-धीरे सामाजिक एवं भाषायी परिवर्तन के कारण गाँव का नाम जोहड़ीवाला से बदलकर जोड़कियां हो गया , जबकि स्कूल रिकॉर्ड में गाँव को जोड़ांवाली लिखा जाता है और राजस्व विभाग में जोड़ियां नाम दर्ज है। तीन-तीन नामों की धरोहर वाले इस अनोखे गाँव में सिद्ध बाबा गोपालपुरी का डेरा है जिसके प्रति ग्रामीणों में अटूट आस्था है। डेरे में हर वर्ष 20 दिसंबर को बाबा के निर्वाण दिवस पर ग्रामीणों द्वारा जागरण एवं भंडारे का आयोजन किया जाता है जिसमें आस-पास के गाँवों के अनेक श्रद्धालु एकत्र होते हैं। डेरे में बाबा गोपालपुरी का धूणा है जहाँ वर्षभर अखंड ज्योत जलती रहती है। मान्यता है कि इसी स्थान पर बाबा गोपालपुरी ने 12 वर्षों तक कठोर तप किया था इसलिए यहाँ धोक लगाने से सभी मनोकामनाएँ पूर्ण होती हैं।

इस डेरे के अतिरिक्त गाँव में प्राचीन संकटमोचन हनुमान मंदिर , रामदेवजी का रामदेवरा , जाहरवीर गोगाजी की गोगामेड़ी , प्राचीन कुआँ एवं प्राचीन पीपल का पेड़ है। धार्मिक , सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक दृष्टिकोण से समृद्ध इस गाँव में लगभग 1100 मतदाता हैं किंतु यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आज भी ग्रामीणों को बिजली , शिक्षा , पेयजल व परिवहन संबंधी मूलभूत सुविधाओं के लिए जद्दोजहद करनी पड़ती है। गाँव में सिर्फ आठवीं कक्षा तक ही सरकारी स्कूल है। उच्च शिक्षा के लिए बच्चों को गाँव के बाहर जाना पड़ता है , किंतु सुचारू परिवहन व्यवस्था न होने के कारण शिक्षा एवं व्यापार दोनों ही बाधित होते हैं। जिला मुख्यालय से 30 किलोमीटर दूर स्थित , लगभग 2200 की आबादी वाला यह गाँव विकास के कार्यों में बहुत पिछड़ा है।

देश में पंचायतीराज व्यवस्था शुरू होने पर सर्वप्रथम राजेराम बैनीवाल को गाँव का सरपंच बनाया गया था। इसके बाद से समय-समय पर कई सरपंच आते-जाते रहे किंतु किसी ने भी विकास कार्यों की ओर अपेक्षित ध्यान नहीं दिया , परिणामस्वरूप डिजिटल भारत का यह गाँव आज भी अपने उद्धार को तरस रहा है।

मोहिनी तिवारी

17,569FansLike
2,287FollowersFollow
14,200SubscribersSubscribe

Recent Posts