उष्ट्रासन (Camel Pose)

2
2296
Dr. S.L.YADAV
बिधि,लाभ एवं सावधानियॉं –
उष्ट्रासन (Camel Pose) –इस आसन का आकर चूँकि बैठे हुए ऊँट (उष्ट्र) के समान बनता है।  इस लिए इसे उष्ट्रासन (Camel Pose) के नाम से जाना जाता है।यह आसन कमर दर्द एवं पीठ  दर्द को ठीक करके रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है।
 
उष्ट्रासन की बिधि –सबसे पहले किसी समतल जमींन पर योग मैट (चटाई ) बिछाकर बज्रासन में बैठते हैं। फिर दोनों घुटनों एवम दोनों पँजों में 1 से 1.5 फिट का अन्तर करके घुटनों को जमीन  पर रखते हुए ऊपर वाले शरीर को सीधा करते हैं।पैर के पंजे पीछे की तरफ खींच देते हैं। फिर  चित्रानुसार कमर से पीछे झुकते हुए दोनों हाथ से दोनों एड़ियों को पकड़ते है यदि सम्भव हो तो दोनों हाथ की हथेलियों को पैर के तलवे पर रख देते है।अब सीने को ऊपर की तरफ खींचते हैं  एवं कमर को घुटनों की तरफ लाने का प्रयास करते है। यथासम्भव अपनी शारीरिक क्षमतानुसार या 2 से 3 मिनट रोककर वापस आते है। साँसे सामान्य रखते है। आसनो का समय धीरे धीरे बढ़ाते है।गर्दन को पीछे की तरफ झुका देते है।  
 
  उष्ट्रासन के लाभ –
  • कमर एवं पीठ दर्द को ठीक करने का सबसे अच्छा आसन है। 
  • घुटनों की मांसपेशियों को मजबूत बनाकर घुटनों को मजबूत बनाता है। 
  • फेफड़े को खिचाव  देकर उन्हें मजबूत बनाता है। 
  • हृदय की मांसपेशियों को खिचाव देकर हृदय को मजबूत बनाता हैं। 
  • सीने में उभार उत्पन्न करके सही आकार प्रदान करता हैं। 
  • कमर एवं जंघों को पतला बनाता है। 
  • किडनी को मजबूत बनाता है। 
  • रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है एवं उसे सही आकार प्रदान करता है।
  • पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है। 
  • मासिक चक्र को सामान्य बनाता  है। 
  • गर्दन को पीछे झुकाने से गर्दन के दर्द में लाभ मिलता है  

उष्ट्रासन में सावधानियाँ  –

घुटने की जादा तकलीफ,चक्कर आने की समस्या ,में योग चिकित्सक की देख रेख में ही करना चाहिए। 

2 COMMENTS

  1. पीठ की समस्याओं को दूर करने का बहुत ही लाभकारी आसन है।

Comments are closed.