Home Blog Page 24

Is your child developing appropriate speech and language?

3


Dr. Priyanka Mishra
Speech and language skills are at the root of your child’s cognitive and social emotional development. Research overwhelmingly supports the connection of speech and language to reading and math success and it also shows that social and emotional skills can be traced directly to language skills. Children need words to develop appropriate strategies for conflict resolution and to read social cues of others. Their emotional strength and resilience develop from the success they have understanding others and communicating their needs.So how does speech and language develop?From 12-24 months the eruption of new vocabulary is an exciting daily occurrence. Typically, by two, children have 200 words. Those 200 words explode in typical three years old to an understanding of 2-3000 words and the ability to use 1000 words. It’s an incredible accomplishment!! (And just a start on more than 80000 words needed to be college ready).Parents can individually “scaffold” the acquisition of new words with affectionate one on one attention to what the child knows and what the child can acquire next. They can be there to track and nurture new words and new sentence structures as they emerge and to consciously enrich a child’s developing skills in a multitude of contexts.   When should you see a speech language pathologist?Language delays include problems understanding what is heard or read (receptive language delays) or problems putting words together to form meaning (expressive language delay). Some children have both speech and language delays.If your child does not reach developmental milestones on schedule, it does not mean necessarily mean there is a problem. But he/she needs to be evaluated by a health professional.Red flags for speech and language delay include:


• No babbling by 9 months

.• No first word by 15 months

.• No consistent word by 18 months

.• Slowed or stagnant speech development.

• Problems understanding your child’s speech by 24 months of age; strangers having problem understanding your child’s speech by 36 months of age.

• Not showing any interest in communication.Also, talk to your health professional anytime you or other caregiver has concerns about your child’s speech and language development or other problem that affects your child’s speech or understanding of speech such as 

• Excessive drooling

• Problems in sucking, chewing or swallowing

• Problems in control and coordination of lips tongue and jaw.

• Stuttering that causes a child embarrassment, frustration or difficulty with peers.

• Poor memory skills by the time your child reaches kindergarten age (5-6 yrs). He or she may have difficulty learning colours, numbers, shapes or the alphabet.Other red flags include-

• Failure to respond normally, such as not responding when spoken to. This may include signs that the child does not hear well such as reacting to loud noises.

• A sudden loss of speech and language skills. Loss of abilities at any age should be addressed immediately.

• Not speaking clearly or well by age 3.Remember, in order to maximize the benefits of any speech and language intervention, it should be started as early as possible without losing any of the precious early five years of the child. 

(Writer is a Consultant Audiologist and Speech Language Pathologist)

NATURE WATCH

2
Prachi Dwivedi
वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर व वन्यजीव एक्टिविस्ट जितेश पांडेय द्वारा हिमालय के क़दमों को चूमते उत्तराखण्ड के हरिद्वार में बसे राजाजी राष्ट्रीय उद्यान का मनमोहक दृश्य!
जितेश पांडेय कहते हैं कि जंगल जितना खूबसूरत है उतना खतरनाक भी, राजा जी नेशनल पार्क ऐसा खूबसूरत जंगल, जो जन्नत से कम नही हैं ,पर इस जन्नत का बाहुबली; हाथी और उसका परिवार ही है।
चिला रेंज में घूमते हुए मुझे ये शानदार नजारा दिखा, हथिनी और बच्चो को देख के ह्रदय मानो गदगद हो उठा, तुरन्त कैमरे से इस दृश्य को कैद किया, हाथी को देखने का नजारा जितना रोचक होता है उतना खतरनाक भी, इस लिए हाथियों से उचित दूरी बना के ही फोटोग्राफी करनी चाहिए। मेरी जीप नजदीक होने पे एक हाथी ने चिंघाड़ के मुझे दूर रहने की चेतावनी दे डाली, वह तेज आवाज़ मुझे आज भी याद आती है जो मेरे लिए एक बहुत बड़ा सबक है, पलक झपकते ही हाथी आप के करीब होता है, अगर आप जरा भी पास पहुँचें तो हाथी के गुस्से का शिकार हो सकते है, जो आप के जीवन के लिए घातक हो सकता है, वाइल्डलाइफ फोटोग्राफी के साथ साथ हमारा लक्ष्य यह भी हो कि हम वन और वन्यजीव संरक्षण के लिए आगे आए और अपना योगदान दे।

Pollution Changing Cloud Formation and Rains Pattern

2
G.P Varma
The higher rate of pollution in the air has drastically affected the cloud formation and the rain pattern in the country according to a study by a noted environmental scientist at the Indian Institute of Technology (IIT-K) Professor Sacchidanand Tripathi.
The observations are based on the sixteen years data based research, jointly conducted by a team of four environmental scientists led by professor Sacchidanand Tripathi (Department of Civil Engineering and Centre for Environmental Science and Engineering IIT-K).
The scientists included in the research studies were Chandan Sarangi (Pacific Northwest National Laboratory Richland USA), P. Kanawade ( Centre for Earth, Ocean and Atmospheric Sciences, University of Hyderabad), Abin Thomas and Dilip Ganguly( Centre for Atmospheric Sciences IIT-Delhi),
Professor Tripthi said during the study on “Aerosol-induced intensification of cooling effect of clouds during Indian Summer Monsoon” it was observed that enhanced aerosol concentration were responsible for macro and microphysical properties of the cloud.
The research related paper has been accepted by the prestigious International Journal “Nature Communications” for publication.
Professor Tripathi said, “The long term satellite data (2002-2016) provided evidence of aerosol induced cloud invigoration effect (ALve) during the summer monsoon. The ALve led to enhance formation of thicker stratiform (anvil clouds) at higher altitudes, while in normal course anvil cloud is smaller.”
This change in the structure of the cloud has changed the character of the monsoon and the nature of rains. Due to this change often the rains occur suddenly in intensified manner and for a short spell of time and caused flash floods in the areas.
Besides, rains also occur in places which never had it earlier. As a consequence of the changes nights are getting warmer and the day’s temperature was on rise .
The report is a warning against the growing air pollution. If it was not contained, it would have serious and damaging effects in the climatic cycle and the condition of the country, Professor Tripathi said.

Exporters Need More Relaxation -Says FIEO President

1
The bank credit issue of exporters are yet to be resolved as  PSU Banks officials including MDs, EDs, GMs, AGMs are not accessible to exporters particularly from the MSME sector. This has tightened the hands of the exporters to take orders.
Union Minister for Commerce Suresh Prabhu, who has introduced several steps to promote exports would not fructify if banks failed to lend  exporters smoothly and at affordable rates, says the President Ganesh Kumar Gupta.
On one hand, the government is pushing digital India initiative and paperless transactions, these banks demand of documents, collateral and other papers for considering our applications for smaller limit  rupees one to five crores of loan. It takes months and months to get these limits approved and in the mean time they lose the export orders, he said.
Similar is the problem with the ECGC, which is very reluctant to extend insurance cover. They reject claims on very flimsy grounds. If banks and ECGC continued delaying practices country would not be able to register double digit growth rate in exports, Gupta said.
The matters which should be the focus of the government to push exports included, Enhancement of Duty Drawback rates, inclusion of more products like fabrics under MEIS.
The Interest equalization scheme increased from three to five per cent should be extended to merchant exporters as well, as they contributed about 35 per cent in the total exports.
In order to promote exports of GI products, government should join hands with FIEO to set up big stores at airports and the facility of GST refunds at airports should be started immediately.
These measures would help in reaching USD 350 billion exports and recording substantial growth rates, Gupta said.
The FIEO Chief said that India’s exports to China were moving positively from 2016-17 when it grew by 13% followed by 31% growth in 2017-18. India’s exports to China grew up by about 17% in the first six months of 2018-19, more or less in line with general trend in India’s exports.
However, the sharp decline in exports of copper, ores and minerals, zinc shows that India’s exports are moving towards value added exports. India’s exports of marine products grew up by over 100%, organic chemicals by 40%, plastic and plastic products by 70%, gems and jewellery by 60% and mechanical machines and appliances by 20%.

GLOBAL INTOLERANCE- A BURGEONING THREAT

5
Dr. Asha Singh

No wonder, the today’s delirious world, going in an abstract way, hitherto seems to be handless without weapons, getting trapped in a blind chase to adorn itself with highly efficient arms and ammunitions apt to its sturdy assertiveness and absurdity. The fresh classy trials of supremacy and echoing of intolerance in territorial regional disputes at places like Syria and blue waters can be heard and seen no less far and wide. So it’s quite evident that the existing world is more or less thriving under the shadow of crazy, lunatic and intolerant leaderships. To adding another imperfect feather to an ideal multi crises cap is unhindered cultivation of imperfect socialist gurus as a part of political gambling strategy that are leaving no stones unturned to harness the unblossomed scapegoats to find solace in intolerant principles. It can be like “Eureka-Eureka” for Dr Zakir Naik, the ‘Nayak cum Khalnayak’ to play the cards of religion and very tactfully transform the naked half-truths to virtual truths. Highly capable of vicissitude, the wizard of himself found it easy to diffuse selfish and only self-enlightened goals amongst the most virgin, incomprehensible multitudes and subsequently misleading the opinions of insipid souls. It cannot be ruled out that there are desperate efforts for manipulating the rudimentary fundamental divine cause of our existence and also encouraging fraudulent ways to inspire false hopes among vulnerable grumbling with destiny. As style and taste goes global, intolerant mechanisms goes global too in juxtapose. What is worrying is that a totally new prolific breed of aggressive religious extremists, a fusion of opposite cultures has evolved and are being groomed at political and religion based laboratories under the blanket of ignorance and fear. Thus prompting Peter Hangman to write a book named ‘WHY KIDS KILL’.

A series of gruesome attacks on Uri, Pathankot, Bangladesh, Brussels and Cubec reminds me of Joseph Nye’s statement that the small players win if they make the larger players use their strength against themselves; needless to name the small masterminds such as ‘Natin of Orlando’ or ‘Buhlal of Nice’ and many more. For the same reasons so many innocent lives are killed and describing it not a hyperbola that it could be the worst violation of human rights.
 
The wide spread global tragedies is quite an indication of the rising graph of stratified intolerance and in fact polarisation. Polarisation has bluntly provided a sweet tangy aroma to the political gamut. The world is witness to Donald Trump’s pranks and rebukes to the doctrine of compassion. Even scarier is showcase of no restraint on unabashed attitudes among global leaders so categorically.
 
A report by US commission for Inter Religious Freedom has ratified to the increased incidents of harassments and derogatory hate speeches made publicly in India. Consequently, so many acclaimed national award winners explicitly had found it pertinent to return their honours which speaks volumes of the compulsion to express for intolerance thus presenting a dismal yet sorry state of their minds. Can the democracy be even more ruptured and suffocating than this?  Who should pay the indemnity for Nepal consequently resulting in eight prime ministers in eight years after 2008? The state mongers or the unaccountable praja? However, carrying out a smear campaign of instability overnight is as depressing as it is to think so.
 
If we peep in the past there were existed two categories of the people one – optimist and the other- pessimist. In the due course of time due to many subdued factors another category-activist came into existence. With the gradual transformation the penultimate category of extremist evolved and ultimately in the present scenario the category has transformed as terrorist- the most intolerant persons.
 
Just taking a dig at global online freedom, engulfed in an obsession of its own peculiar kind, a redundant Craving for creative outbursts, blunt rebuttals at times, is all that we are getting conditioned to. A unanimous coherence to the ongoing trends and its tidal thrusts are ubiquitous. But unfortunately today, speculations regarding sanctified dignity of global online freedom are hitting the sensitivity and soulfulness of app users. Are we losing the secular dimensions of our tolerance parameters? Hate significantly always erupts at bottom or middle levels, It’s by hook or crook to instigate the idiosyncratic internal patriots. The extremism has submerged the entire mindsets into an ocean of despair, uncertainty and obduracy indeed. The subtle truth is that the entire network of intolerance is operating at the behest of self-directed unmatched commitments revealing rebellious intentions and desperate choices for no obvious reasons. So are we not getting inclined to making picture perfect barriers for ourselves? Isn’t all this nothing but an arbitrary articulation of our hopes and aspirations gradually being made submissive by stubborn ideals?
During twentieth century most of the families were joint, where families of two or more brothers even cousins used to live together with the eldest person taking the driving seat. All the festivals and special occasions were celebrated together, even during any untoward events the whole family used to stand together as a result of which the affected one never felt loneliness during grief. The new generation is spending more time on internet especially on watching violent movies and on violent video games leading to mental pollution. Previously the elder ones used to taught manners and children were taught not to react against elder ones But in today’s scenario, when families are shrinking and even wife husband are not living under a single roof, the loneliness i.e.  unsharing of grief is leading to violent attitude. Today when both the parents are involved in multiple jobs to meet their luxurious requirement, their wards certainly become self-centered which leads to buffed distorted attitude and ultimately leads to intolerance towards parents and society when they grow up.
 
When a man is not able to cope up with fast growing society and culture he becomes violent to show his dominance in society. Apart from this growing ego and dominant attitude due to irrelevant things, made available by intolerant and egoistic persons, on social media and internet is one of the major areas of concern. Status difference in society is making a section of society of obtuse mentality.Intolerance is generated by imposing a thing forcibly on someone or by restricting someone to do certain things. The best example of such intolerance is government sponsored religious restrictions on one or more section of society and imposing unwanted religious customs in certain countries.
 
Most of the things seem to be getting out of hands and we let the things happen as such. How far could we shoulder the burden of a troublesome present? With alarm bells ringing at the doorsteps and moral ideals smashed altogether, its onus of the broader international community to abide by their synchronized commitments and rather stay away from  smear campaigning or a naïve U-turn of rhetorics. It’s time to stop fishing in troubled waters for good and all forever.

लोकप्रिय होती रंग चिकित्सा

0
Prachi Dwivedi
रंग; चिकित्सा का एक बहुत बड़ा हिस्सा बन चुके है| रंगों का इस्तेमाल  मानसिक और शारीरिक विकारों जैसे मांसपेशियों की सूजन, स्लिप डिस्क, माइग्रेन,  बांझपन, कैंसर इत्यादि को दूर करने के लिए भी होता है,  रंगों का इतिहास आज का नहीं, बल्कि उतना ही पुराना है जितना कि इंसानी शरीर। हमारा शरीर रंगों के संतुलन से बना है, और आज के व्यस्त दौर में भाग-दौड़ के बीच हमारे शरीर में होने वाले विकार, हमारे शरीर की सम्पूर्ण ऊर्जा के असंतुलन का परिणाम है।
 
रंग चिकित्सक सी. पी. श्रीवास्तव के अनुसार यह चिकित्सा हमारे शरीर के 7 चक्र पर आधारित  हैं। चक्र प्रत्यक्ष रूप से अंतःस्रावी (एन्डोक्राईन) ग्रंथी को जोडकर शरीर की सभी प्रक्रियाओं को नियंत्रित करते हैं, इस प्रकार यह हमारे शरीर की ऊर्जा प्रवाह को प्रभावित करते हैं तथा वातावरण से प्राथमिक ऊर्जा को अवशोषित करके ऊर्जा वाहिनीयों को भेजते हैं। पृथ्वी पर सभी ऊर्जाओं का जन्मदाता सूर्य है,  सूर्य के प्रकाश में विद्यमान विभिन्न तरंगदैर्घ्य के रंगों में ऐसी अनोखी शक्ति है जो गंभीर शारीरिक और मानसिक विकारों का भी नाश कर सकती है। रंग  हमारी  इसी ऊर्जा को संतुलित करते  है। प्रत्येक रंग में सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा  होती है। इस चिकित्सा में उपचार के रूप में रंग की ऊर्जा का उपयोग किया जाता है। जैसे कि  सिरदर्द से निजात पाने के लिए  छोटी उंगली के नाखून के निचले हिस्से के पास हरा रंग लगाने पर  लाभ मिलता है।
 
कविता माहेश्वरी ने रंग चिकित्सा के प्रयोग के बारे में बताते हुए कहा कि दाहिनी हथेली में अँगूठे के निचले हिस्से पर हरे रंग को पॉइंट करने से उन्हें आँखों के नीचे काले घेरों से छुटकारा मिला। कविता रंग चिकित्सा से इतनी प्रभावित हैं कि उनके परिवार के सभी लोग अब रंग चिकित्सा से ही अपनी परेशानियों से निजात पा रहे हैं, वह हर किसी को इस चिकित्सा से ही उपचार करने की सलाह देती हैं।  लता माहेश्वरी का कहना है कि कई साल पहले चप्पलों के ब्रोच की वजह से उन्हें दोनों पैरों में इन्फेक्शन हुआ। जब किसी भी तरह के उपचार से उन्हें लाभ नहीं हुआ तब उन्होंने रंग चिकित्सा से उपचार करना शुरू किया और उन्हें इसका पूरा लाभ भी मिला है। रंग हमारे शरीर में जैव रासायनिक क्रियाएँ करके हार्मोन्स को सक्रिय करते हैं, और जब हम विभिन्न रंगों के संयोजन को किसी विशेष ग्रंथि पर पॉइंट करके त्वचा पर लगाते हैं तो सम्बंधित कोशिका में बिना रुकावट के ऊर्जा का प्रवाह होता है।
 
बदलते दौर में भी कुछ चीज़ें कभी नही बदलती, बस उन्हें समझने के तरीकों में बदलाव जरूर आता है। विविधता से पूर्ण भारतीय परिवेश में तो हमे रंगों का एक अनोखा समाजशास्त्र देखने को मिलता है। समाजशास्त्रीय दुर्खीम के शब्दों में कहें तो रंग भी सामाजिक तथ्य हैं, प्रकृति की हर रचना में रंगों का राग है। रंगों की महत्ता को दरकिनार नही किया जा सकता। किसी के लिये पीला रंग शुभ है तो दूसरे के लिए हरा। आपसी वैमनस्य से दूर जब यही रंग मिलते हैं तो एक अनोखी छटा बिखेरते हैं, इस बात से परे कि क्या शुभ है और क्या अशुभ।
 
– प्राची द्विवेदी

‘मैं ठीक हूँ… ज़िन्दगी’

1
Dr. Kamal Musaddi
दो वर्ष पहले हरिद्वार गयी थी, गंगा के किनारे बने घाटों पर घूम रही थी तो जगह जगह बूढ़े, असहाय लेटे बैठे मिले। मन में आया, इतनी निरीहता, इतना अकेलापन आखिर इन्हें जन्म से तो नहीं मिला होगा ! फिर कौन हैं ये? कहाँ से आते हैं? क्यों इन वीरानों में अकेले पड़े हैं? ‘पड़े हैं’ शब्द ही उनके लिए सही लगा क्योंकि विवशता ‘पड़े रहने’ में होती है। ‘रहता’ तो इंसान अपनी मर्जी से है।
 
मन में जिज्ञासा और निराशा लिए शांति निकेतन आश्रम लौटी और कुछ ही घंटों बाद मुझे मेरी जिज्ञासा का जवाब मिल गया।
 
 ग्रीष्मावकाश में स्थान परिवर्तन हेतु मैंने शान्ति निकेतन हरिद्वार को चुना किन्तु अशांत मन के कारण और जो कमरा रहने को मिला था उसमें गर्मी की अधिकता के कारण रात्रि लगभग दस बजे मेरी तबियत घबराने लगी। शरीर बेजान सा लगने लगा और दिल बैठने लगा। मुझे लगा शायद हाई बी.पी. या लो शुगर के कारण ऐसा हो रहा है। मगर आश्रम में आठ बजे के बाद किचन, दूकान सब बंद हो जाते थे, इसलिए कुछ भी मिलना संभव नहीं था। मैं कमरे से निकलकर नीचे पार्क में बैठ गयी। मुझे आए चौथा दिन था, मेरी एक दो सेवादारों से दोस्ती हो गयी थी। हाँ मुझे याद है, उस समय रात्रि का एक बजे था जब मैंने पुष्पा को फ़ोन किया था कि मेरे पास आओ। उसने शीघ्र आने की बात कही। उसके आ जाने के आश्वासन से मेरी थोड़ी हिम्मत बंधी। आश्रम का मुख्य द्वार वहाँ से दिखता था जहाँ मैं बैठी थी। लोगों का आवागमन लगा हुआ था। मैं आते-जाते लोगों को देख रही थी। और पुष्पा का इंतज़ार कर रही थी। मैं जहाँ बैठी थी वहाँ से पुष्पा का कमरा इतनी दूर था कि रेंग कर भी आती तो दस मिनट से ज्यादा नहीं लगते मगर अब तो एक घंटा होने को था और मेरी बेचैनी बढ़ रही थी। मुझे उस समय किसी अपने की सख़्त ज़रूरत थी और पुष्पा मझे तिनके का सहारा लग रही थी मैं उठकर उसके कमरे की तरफ जाने का मन बना ही रही थी कि तब तक पुष्पा आती दिखाई दी। मैंने आते ही उससे देर होने का कारण पूछा तो उसने एक ठंडी सांस ली फिर बोली ‘येसब यहाँ अक्सर होता है’। ‘क्या होता है?’, मैंने उत्सुकतावश पूछा, बोली ‘आ रही थी तो रास्ते में एक बुज़ुर्ग महिला मिली, बदहवास सी खड़ी, चारो ओर देख रही थी।‘ पूछा ‘अम्मा किसे देख रही हो?’ तो बोली ‘बेटा, बहू, पोता सब थे, मैं जल्दी चल नहीं पा रही थी, वो आगे निकल गए, जाने कहाँ चले गए?’ कहकर रोने लगी, मैंने उसे ढाँढ़स बँधाया। उसके पास सुनीता को खड़ा करके आगंतुक सूची देखी और उनके लिए बुक कमरे। फिर उनको लेकर गयी, देखा बेटा, बहू बिस्तर बिछा कर लेट चुके थे, पोता सो चुका था। अम्मा को देखकर दोनों के चेहरे का भाव मैंने पढ़ लिया था। शांत खड़ी रहकर उनकी प्रतिक्रिया देख रही थी। बेटा बिस्तर से उतरा और कुटिलता से बोला, ‘अम्मा कहाँ रुक गयी थी?’ हम कब से तुम्हें ढूंढ रहे थे, मगर तुमको तो आज़ाद रहना पसंद है ना सो चले आये। मुन्ना थकान और नींद से रो रहा था। सोचा ये सो जाए तब तुम्हे खोजे।
 
अम्मा ने पल्लू से चेहरे का गीलापन पोछा, कुछ नहीं बोली। हाँ मुझसे बोली, ‘बिटिया अब तुम जाओ।’
 
पुष्पा के शब्द भीगे थे, वो कह रही थी अब लाख जतन कर ले, अम्मा का संसार ये आश्रम ही रहेगा और फिर गंगा घाट की सीढ़ियां जहाँ लेटने के लिए कोई शुल्क नहीं देना पड़ता। जल, गंगा का मिल जाता है और भोजन; ऐसे धनाढ्य आते हैं जो माता-पिता के नाम पर गरीबों को भोजन कराते हैं। फिर एकदिन यही आश्रम के लोग या सरकारी लोग अम्मा का संस्कार कर देंगे बस।
मैंने अपने अकेलेपन को देखा, अपने भीतर झाँका, सोचा, जो छोड़ गया, वो अम्मा के गर्भ में रहा था। मेरा चयनित संसार मेरे अनुकूल नहीं तो क्या? ज़िन्दगी मुझे नए रिश्तों के चयन को आमंत्रित कर रही है और मैं पुष्पा का हाथ पकड़कर बोली ‘जाओ सो जाओ’ अब मैं ठीक हूँ……….’ज़िन्दगी।‘

हैरान, परेशान, दुखी और आक्रोशित शब्द – शब्दों की व्यथा

3
Dr.Suresh Awasthi
राजनेताओं ने एक दूसरे पर कीचड़ उछालने के लिए जिस तरह से कुछ शब्दों का घटिया प्रयोग किया, तमाम शब्दों को अपने ऊपर अस्तित्व संकट नज़र आने लगा। अंततः इन शब्दों ने भाषा संघ से गुहार लगाई तो भाषा संघ ने हिंदी की अध्यक्षता में उनका एक सम्मेलन बुलाया। हिंदी की अध्यक्षता में शुरू हुये शब्द सम्मेलन में पहले कहा गया कि देश में लोक सभा के चुनाव नजदीक हैं इसलिए तय है कि भाषा की आचार संहिता को अचार संहिता मानने वाले नेता हम शब्दों का मनमाना प्रयोग करके न केवल हमें बल्कि हमारी जननी भाषा को अपमानित करेंगे। इसलिए हमें संगठित हो जाना चाहिए। सम्मेलन में अब बारी थी शब्दों को अपनी व्यथा व्यक्त करने की। सबसे पहले ‘चौकीदार’ शब्द बोला, ‘वैसे तो मानव समाज में मुझे हमेशा एक जिम्मेदार व्यक्तित्व के रूप में देखा गया किन्तु जब भी मुझे क्रिया रूप में अर्थात चौकीदारी बनाया तो हर किसी ने हिकारत की नज़र से देखा। यही कारण है कि मेरा कभी प्रमोशन नहीं हो पाया। पिछले सालों देश की एक खास शख्सियत ने जब मुझे अपनाते हुए खुद को ‘चौकीदार’ कहा तो मेरा सम्मान बढ़ा। तब से मैं बेहद खुश था पर इधर जब से मेरे साथ चोर विशेषण जोड़ कर एक शख्सियत ने सरेआम ‘चौकीदार चोर है’ कहना शुरू किया तबसे मन बहुत दुखी है।
 
‘बात चाहे सरकार की हो या मंत्रालय की, बात चाहे किसी व्यक्ति की हो या पद की उसके आगे कोई चोर लगाये कोई बात नहीं पर मेरे आगे ‘चोर’ शब्द लगा मेरी साख पर कालिख क्यों पोती जा रही है? देश में इतने मंत्रियों, नेताओं, जमाखोरों, दलालों ने चोरी की और कर रहे हैं। उनके साथ ‘चोर’ लगाया जाए। मुझे खुशी होगी।पर हम ईमानदारों के साथ ‘चोर’ लगाना, गाली देने से कम नहीं है। मुझे इनसे बचाओ।‘ ‘चोर’ शब्द का दर्द छलका तो ‘नीच’ शब्द भी उठ खड़ा हुआ और बोला, ‘पिछले दिनों जिस तरह से मुझे अपमानित किया गया, मैं आज तक रो रहा हूं। कुछ बड़बोले राजनेता तो जैसे मेरा अर्थ ही नहीं जानते। जिसके साथ मन करता, बिना सोचे समझे जोड़ देते हैं। खल, दुष्ट, लूटपाट करने वाला, बलात्कारी, हत्यारा जैसों के साथ मुझे जोड़ा जाए तो पीड़ा नहीं होती परंतु जनता ने जिसे नायक, महानायक या लायक चुना हो उसके साथ जोड़ दिया जाए तो मेरे सामने अस्तित्व संकट पैदा हो जाता है। मेरी रक्षा की जाए मातश्री !’
बेहद उदास ‘नीच’ शब्द गरदन झुका कर बैठ गया तो ‘साम्प्रदायिक’ शब्द उठ कर खड़ा हो गया, बोला, ‘ माताश्री जब से देश में लोकतंत्र की स्थापना हुई है मुझे बहुत ही सताया जा रहा है। चुनाव में कभी मुझे साम्प्रदायिकता का स्वरूप देकर तो कभी किसी और रूप में बार बार प्रयोग किया गया है। मुझे इतना घिसा गया कि मेरा अर्थ ही बदल गया। मुझे धर्म से इस कदर जोड़ा कि लोग व समाज तो छोडिए पशु, रंग व महापुरुषों तक का बंटवारा हो गया। तब से मेरे आंसू हैं कि सूखने का नाम ही नहीं ले रहे। मेरी रक्षा कीजिए माँ !’
इसी तरह से ‘कमीना’, ‘पप्पू’, ‘छोड़ू’, ‘लफ्फाज’, ‘हत्यारा’, ‘दंगा’, ‘गौरक्षक’, ‘घोटाला’, ‘बड़बोला’, ‘धोखेबाज’, ‘दलित’ जैसे तमाम शब्दों ने भी अपनी अपनी पीड़ा व्यक्त की।
इसी बीच कहीं से ढेंचू ढेंचू की आवाज़ सुनाई पड़ी। सभी शब्दों के कान खड़े हो गये। एक गधा बेहद गुस्से में अंदर घुसा और बोला, ‘शब्द भाइयों पिछले चुनाव में मुझे यूपी से लेकर गुजरात तक जिस तरह से बदनाम किया गया है मैं अभी तक दुखी हूं। डरा हुआ हूं कि कहीं मुझे फिर से न घिसा जाये?’
अचानक भौं भौं करते हुए श्वानश्री ने प्रवेश किया और चीख कर बोला, ‘मेरी तो पूरी कौम की ही इज्जत, उतारी गयी। इतना क्रोध आता है कि मन करता है कि कुछ को भभोड़ खाऊँ।’
सम्मेलन की अध्यक्ष हिंदी मां श्री ने सभी को ध्यान से सुना और अंत में सबको संबोधित करते हुए कहा, ‘मेरी प्यारी संतानों शब्द जनों आप सभी की पीड़ा जायज़ है किंतु इन दिनों लोकतंत्र की जीवनदायिनी सांस ‘राजनीति’ के जिस वातावरण में हमें जीना पड़ रहा है, उसमें सभी को ‘संयम’ शब्द के साथ रहना होगा।
 
लोकसभा चुनाव निकट हैं, तमाम राजनेता वाणी संयम खो रहे हैं। आप में से किसी भी शब्द को किसी पर झोंक सकते हैं। इसे मैं रोक पाने में समर्थ नहीं हूं क्योंकि आजादी के 70 साल बाद भी मुझे अभी राजभाषा का संबोधन दिया जा रहा है जबकि राष्ट्रभाषा का संबोधन मिलना चाहिए था। जब मैं अपना ही सम्मान नहीं बचा पा रही हूं तो आप शब्दों की कितनी और कैसे मदद कर सकती हूं। जनता जिनके बीच आप सभी हर रोज़ रहते हो, सब समझती है। समय आएगा जब आप सभी को आधिकारिक मान सम्मान मिलेगा। इसलिए परेशान होने की जरूरत नहीं। सहो और खामोश रहो और ‘गिरावट’ शब्द की ओर देखो कि उसे ये राजनेता कितना और नीचे ले जाते हैं।
 
-डॉ सुरेश अवस्थी

Himalayan Cyclathon

1
At the top of the world
Avinash Noronha (31) recently returned to his hometown Kanpur after a three month, 3000 km long cyclathon in Kashmir, Ladakh, Himachal and Uttarakhand. Even while cycling at a height of 18000 ft. and braving night temperatures of -10 degrees Centigrade, he was wearing just a tee-shirt and shorts. He travelled to Kargil, the Pakistan and China borders, and the highest Indian space observatory at Hanle, besides the highest motorable road in the world at Khardung La.

He cycled on the now abandoned Old Hindustan-Tibet road and the Zanskar Valley over Shinku La, that was fraught with danger. A small misstep meant certain death. During this odyssey he sometimes slept in the tent that he was carrying, or in small wayside dhabas and occasionally in military camps. He experienced the warm hearted hospitality of remote villages, and also the crass commercial tourism in more inhabited areas.
His steed for the journey was a high specification light aluminium alloy mountain bike (MTB) with 30 gears that is specially designed for off-road and trail riding. Many of the areas that he visited had no electricity, internet or phone facilities. The small solar panel fitted on to his backpack helped him to keep his electronic equipment charged.
Avinash, better known as “The Monk” in both cycling and biking circles, had previously cycled for a month in the uninhabited steppes of Mongolia, where they even had to carry their own drinking water cans. He had also taken part in the first ever 200 km road race from the Lion Safari Park in Etawah to Agra, on the special cycling track built by the former Chief Minister of U.P., Shri Akhilesh Yadav. He has also participated in the gruelling MTB Shimla race held every year in the mountains.
Earlier Avinash had worked for six years handling the website and content of a Delhi based motorcycling magazine, with which he had circumnavigated the country several times. However, his first major motorcycle ride was a solo one from Kanpur to Kanyakumari and back in 2009.
Avinash had always cycled to school, but the cycling bug really bit him when, ironically, he was on a motorcycle ride with his cousins in the Spiti Valley in Himanchal Pradesh in 2011. That is when he saw a number of foreigners cycling there, forcing a re-think on which two wheels to travel on!
As a child at home he encountered two young Dutch women who were cycling from Indonesia back to Holland, to raise awareness for differently abled children. His family had once again hosted two other European cyclists, one from erstwhile Yugoslavia and the other from England, in 1997. On a family holiday in the Kumaon hills he had come across a lone cyclist from Delhi on a steep incline where the car was struggling. All these encounters must have left an indelible mark on an impressionable young mind.
– Chote Bhai Noronha

आखिर योग क्यों ?

6
Dr. S.L. Yadav
योग एक दिनचर्या है, नियम है, अनुशासन है। ये हमे सकारात्मक जीवन जीने की कला सिखाता है। गणित में योग का जो मतलब होता है, जीवन पद्धति में भी योग का वही अर्थ है। योग, मतलब ‘जोड़’। जोड़; आत्मा का परमात्मा से। जोड़; ‘मुझे’ (ME) का ‘मै’ (I) से। जोड़; ‘मनुष्य का प्रकृति से’। जोड़; हमारे विचारों का, संवेगों का। यह एकरूपता ही साध्य है और साधन है ‘जोड़ विद्या अर्थात योग विद्या’।
योग हमारे समाज के लिए अत्यंत उपयोगी एवम आवश्यक है क्योंकि योग एक ऐसी विद्या हैं जिसको अपनाकर कोई भी व्यक्ति शारीरिक, मानसिक,एवम् आध्यात्मिक लाभ प्राप्त कर सकता है। योग मानव जीवन के लिए किसी वरदान से कम नही। ऋषियों, मुनियों ने हमे योग के रूप में ऐसी चाभी (ताली, कुँजी) दी है,जिसको अपनाकर अपनी सभी समस्याओ को दूर किया जा सकता है।
योग को अपनाकर हम बिभिन्न बीमारियों- मानसिक रोग (तनाव, चिड़चिड़ापन, क्रोध, चिंता, अवसाद) पेट रोगों (गैस, कब्ज, एसिडिटी), मोटापा, जोड़ो का दर्द ,स्त्री जनित रोग, मूत्र जनित रोग, कमजोरी, आलस्य, दुबलापन, प्रजनन सम्बन्धी समस्याओं, डायबिटीज, ह्रदय आदि रोगों को दूर तो करते ही है और इन बीमारियो को होने से भी बचाते हैं।
योग जीवन विज्ञान है जिसे दैनिक जीवन में अपनाकर जीवन का वास्तविक आनन्द लिया जा सकता है।
जिस तरह से विभिन्न प्रकार के प्रबंधन (मैनेजमेंट) जैसे-व्यापार प्रबंधन, उद्योग प्रबंधन होते हैं ठीक उसी तरह से योग “जीवन प्रबंधन” है, जो यह सिखाता है कि कैसे इसके विभिन्न आयामों (यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, समाधि) को अपनाकर मनुष्य जीवन के वास्तविक आनन्द की प्राप्ति कर सकता है।
1- योगस्य चित्त वृत्ति निरोधः।
महर्षि पतंजलि ने योग को मन की चंचलता को रोकने (नियंत्रित)का सबसे अच्छा साधन बताया है।
 2- योगः कर्मषु कौशलम्।
भगवान श्रीकृष्ण ने गीता में बताया है कि योग कार्यो में कुशलता प्रदान करता है।
 3- अथ योगः अनुशासनम्।
योग हमे अनुशासित जीवन जीने की कला सिखाता है।
 
अतः इस जीवन प्रबंधन (योग) का किसी योग विशेषज्ञ की देखरेख में सीखकर शत प्रतिशत लाभ उठाया जा सकता है। योग को कुशल प्रशिक्षक के निर्देशन में ही करना चाहिए।
 
(लेखक : प्राकृतिक चिकित्सा एवम् योग केन्द्र, आईआईटी कानपुर )

17,569FansLike
2,287FollowersFollow
14,200SubscribersSubscribe

Recent Posts